एकीकृत कृषि प्रणाली और मार्केटिंग पर दिया जोर

एकीकृत कृषि प्रणाली और मार्केटिंग पर दिया जोर
Publish Date:Sat, 24 Oct 2020 07:14 AM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, कठुआ : कृषि विज्ञान केंद्र में शुक्रवार को आयोजित वैज्ञानिक सलाहकार समिति की 12वीं वार्षिक बैठक में शेर-ए-कश्मीर कृषि विवि विज्ञान एवं तकनीक के कुलपति ने जिले के तमाम वैज्ञानिकों को किसानों की आय दोगुना करने के लक्ष्य पर मुख्य रूप से जोर दिया गया। कुलपति प्रो. जेपी शर्मा ने इस मौके पर मौजूदा समय के हालात को देखते हुए वैज्ञानिकों को मूल्य संवर्धन, फसल प्रबंधन, एकीकृत कृषि प्रणाली और मार्केटिग पर ध्यान केंद्रित करने का सुझाव दिया। हालांकि उन्होंने कठुआ कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों एवं उनके साथ लाइन विभागों द्वारा किसानों को उच्च तकनीक की खेती के साथ मोड़ने के लिए समन्वय बनाकर किए जा रहे प्रयासों को सराहा, लेकिन इसके साथ ही उन्होंने कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों को सलाह दी कि वे जिला कठुआ के लिए एक विजन डॉक्यूमेंट तैयार करें, जिसमें मजबूत अवसरों और कृषि में बाधाओं और प्रयासों को शुरू करने के लिए सहयोगी गतिविधियां हो ताकि किसानों को राष्ट्रीय मंच पर लाने के लिए ठोस प्रयास किए जा सकें। कृषि विज्ञान केंद्र को संरक्षित खेती, प्रसंस्करण, पैकेजिग और सहभागी बीज उत्पादन आदि को लोकप्रिय बनाने के लिए इकाइयों को विकसित करने की सलाह दी। उन्होंने जम्मू और कश्मीर से परे अपने उत्पादों को बाजार में लाने की सुविधा के लिए जिला कठुआ में उत्पादों की ब्रांडिग पर ध्यान केंद्रित करने का भी सुझाव दिया। उन्होंने आगे कहा कि कुछ ही समय के भीतर किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कृषि में नई सरकारी योजनाओं पर जन जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाए। प्रो. शर्मा ने केवल प्रौद्योगिकियों के प्रदर्शन के बजाय आपूर्ति श्रृंखला के बहुत कदम पर किसानों की सुविधा पर ध्यान देने का सुझाव दिया।

इससे पहले कठुआ कृषि विज्ञान केंद्र के प्रमुख डॉ. विशाल महाजन वरिष्ठ वैज्ञानिक जिले की वर्ष 2019-20 और सितंबर, 2020-21 तक की गई गतिविधियों की विस्तृत वार्षिक प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत की। इस दौरान ये भी बताया गया कि गत 11वीं वैज्ञानिक सलाहकार समिति की बैठक के दौरान जो सुझाव प्राप्त किए गए थे, उनके निर्देशों पर कार्रवाई की गई। उन्होंने कृषि, पशुपालन, मशरूम उत्पादन और सुअर पालन के क्षेत्र में कठुआ कृषि विज्ञान केंद्र की प्रमुख सफलता की कहानियों पर प्रकाश डाला। इसी बीच उन्होंने वर्ष 2020-21 के लिए केंद्र की कार्ययोजना प्रस्तुत की। इस दौरान, मुख्य बागवानी अधिकारी सुशील कुमार अंगुराना ने अध्यक्ष से जिला कठुआ में मूंगफली को पेश करने की प्रक्रिया शुरू करने के साथ साथ फल फसलों के तहत बढ़ते क्षेत्र के लिए गुणवत्ता वाले अखरोट के पौधों के लिए प्रावधान का भी अनुरोध किया। बैठक के दौरान कृषि विभाग के राजू गुप्ता सहित लीड बैंक के अधिकारी मौजूद रहे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.