Jammu: मंगलामुखी के निर्वस्त्र प्रदर्शन से बिक्रम चौक पर हंगामा, भीड़ हटाने के लिए पुलिस को करना पड़ा बल प्रयोग

मंगलामुखी के निर्वस्त्र प्रदर्शन से बिक्रम चौक पर जाम लग गया। पुलिस को बल प्रयोग भी करना पड़ा।

वीरवार दोपहर करीब एक बजे के करीब बिक्रम चौक पर कुछ मंगलामुखी पहुंचे और सांबा जिले के रामगढ़ निवासी अपने विरोधी गुट के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग को लेकर नारेबाजी करने लगे। देखते ही देखते प्रदर्शनकारी मंगलामुखी अपने सारे कपड़े उतार कर पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करने लगे।

Publish Date:Thu, 21 Jan 2021 09:07 PM (IST) Author: Lokesh Chandra Mishra

जम्मू, जागरण संवाददाता: जम्मू शहर के अति व्यस्त बिक्रम चौक पर वीरवार दोपहर को उस समय हंगामा हो गया, जब कुछ मंगलामुखी (किन्नर) निर्वस्त्र होकर सड़क पर प्रदर्शन करने लगे। वाहनों की आवाजाही रोक कर मंगलामुखी पुलिस के विरुद्ध नारेबाजी कर रहे थे। मंगलामुखी के प्रदर्शन को देखने के लिए वहां लोगों का जमावड़ा लगना शुरू हो गया, जिससे जाम लंबा होते चला गया। स्थिति को नियंत्रित करने और भीड़ हटाने के लिए पुलिस को हल्का बल प्रयोग भी करना पड़ा। दरअसल मंगलामुखी के दो गुटों में आपसी विवाद चल रहा है, जिसके चलते एक गुट ने दूसरे पर पुलिस के संरक्षण में गुंडागर्दी करने का आरोप लगाया।

वीरवार दोपहर करीब एक बजे के करीब बिक्रम चौक पर कुछ मंगलामुखी पहुंचे और सांबा जिले के रामगढ़ निवासी अपने विरोधी गुट के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग को लेकर नारेबाजी करने लगे। देखते ही देखते प्रदर्शनकारी मंगलामुखी अपने सारे कपड़े उतार कर पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। उनका प्रदर्शन तमाशा बन गया। वहां लोगों की भीड़ इकट्ठी हो गई। वाहनों का जाम लग गया। प्रदर्शनकारी मंगलामुखी ने आरोप लगाया कि रामगढ़ के रहने वाले एक मंगलामुखी ने अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर उनके चार साथियों का पिछले दिनों अपहरण कर लिया था और उन सबके गुप्तांग काट दिए थे। रामगढ़ पुलिस के पास यह मामला पहुंचा था, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इसके चलते उन्हें मजबूर होकर प्रदर्शन करना पड़ रहा है।

बिक्रम चौक पर प्रदर्शन और जाम की सूचना मिलते ही एसडीपीओ गांधीनगर पुरुषोत्तम मेहंगी, एसएचओ गुरनाम चौधरी, वूमेन सेल की प्रभारी आरती ठाकुर, वेयर हाउस चौकी प्रभारी सुमित शर्मा दल-बल के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने प्रदर्शन कर रहे मंगलामुखी को शांत करने का प्रयास किया। हंगामा कर रहे मंगलामुखी ने बिक्रम चौक से हटने से इनकार कर दिया। इस दौरान उन्होंने कुछ वाहन चालकों से बदसलूकी भी की। करीब एक घंटे तक चले इस हंगामे के बाद पुलिस कर्मियों ने प्रदर्शन कर रही मंगलामुखी को जबरन सड़क से हटाया और उन्हें वाहन में डाल कर पुलिस लाइन ले गए। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मामला मंगलामुखी के दो गुटों के बीच का है। इस पूरे मामले में उचित कार्रवाई की जाएगी।

प्रदर्शन के दौरान चारों ओर से जाम हो गया बिक्रम चौक : मंगलामुखी के प्रदर्शन के चलते अतिव्यस्त बिक्रम चौक पूरी तरह जाम हो गया। बिक्रम चौक से लेकर तवी पुल और फ्लाई ओवर से होते हुए डोगरा चौक तक वाहनों की कतारें लग गई। हालांकि पुलिस कर्मियों ने डोगरा चौक से वाहनों को गुज्जर नगर पुल की ओर मोड़ दिया था, लेकिन फ्लाई ओवर पर काफी देर तक जाम लगा रहा। जाम खुलवाने में पुलिस कर्मियों को खासी मशक्कत करनी पड़ी। हल्का बल प्रयोग भी करना पड़ा।

दोनों गुटों ने किया था आपस में लिखित समझौता : एसएचओ रामगढ़ इंद्रपाल सिंह ने बताया कि कुछ समय पूर्व मंगलामुखी के दो गुटों में विवाद का मामला उनके पास आया था। उन्होंने दोनों दलों को बैठा कर मामला हल कर दिया था। दोनों दलों ने लिखित में समझौता किया था। इसलिए कार्रवाई आगे नहीं बढ़ी। अचानक से विवाद फिर तूल पकड़ लिया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.