Amit Shah in Kashmir: सीआरपीएफ कैंप पहुंचे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, बोले- कश्मीर में आतंकवाद को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा

सोमवार शाम आठ बजे के करीब अमित शाह सीआरपीएफ कैंप पहुंचे। वहां सीआरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। इस मौके पर प्रदेश के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा भी मौजूद थे। जम्मू-कश्मीर के तीन दिवसीय प्रवास पर आए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज रात को कश्मीर में ही रुकेंगे।

Vikas AbrolMon, 25 Oct 2021 06:00 PM (IST)
कश्मीर में मौजूद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज शाम लीथपोरा में जवानों के साथ बातचीत करेंगे।

श्रीनगर, जेएनएन। केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के तीन दिवसीय प्रवास पर आए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज रात को कश्मीर में ही रुकेंगे। सीआरपीएफ कैंप में जवानों के साथ बातचीत कर रात्रिभोज भी करेंगे।सोमवार शाम आठ बजे के करीब अमित शाह सीआरपीएफ कैंप पहुंचे। वहां सीआरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। इस मौके पर प्रदेश के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा भी मौजूद थे।

अमित शाह ने सीआरपीएफ कैंप में जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि एक समय था कि कश्मीर में हर रोज पत्थरबाजी की घटनाएं होती थी लेकिन अब ऐसी घटनाएं नाममात्र ही रह गई हैं। मोदी सरकार प्रदेश की आतंकवाद के खिलाफ जीरो टालरेंस की नीति रही है। इसे बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

There was a time when stone pelting was rampant in Kashmir. Number of such incidents has decreased significantly today... Modi Govt has a zero tolerance policy against terrorism. It is against humanity & we can't tolerate it: Union Home Minister Amit Shah at CRPF camp in Pulwama

-ANI (@ani 25 October 2021)

जानकारी के अनुसार, कश्मीर में मौजूद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज शाम लीथपोरा में जवानों के साथ बातचीत करेंगे। इस दौरान वह सीआरपीएफ कैंप जाएंगे और रात को रात्रि भोज करने के उपरांत वहीं ठहरेंगे। हालांकि सूत्रों का कहना है कि खराब मौसम की वजह से श्रीनगर से उड़ान संभव नहीं हो पाने की वजह से ही अमित शाह ने आज रात कश्मीर में सीआरपीएफ जवानों के बीच रहने का फैसला लिया है।

हालांकि इससे पहले आज यानि सोमवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने विभिन्न प्रतिनिधिमंडलों से भी भेंट की। उन्होंने सूफी और संतों से भेंट कर कहा कि सूफी संस्कृति भी उसी समृद्धता का हिस्सा है जो शांति और उदारवाद का सूचक है।इसी वजह से कश्मीर शुरू से ही भारत की समृद्ध विरासत का केंद्र बिंदु रहा है। उन्होंने कहा कि सूफीवाद मध्य पूर्व और कश्मीर के रास्ते भारत देश में आया था। कश्मीर ने समूचे देश को सूफीवाद का तोहफा दिया है। करीब आधे घंटे तक हुई इस बातचीत में सूफी-संतों ने गृह मंत्री अमित शाह के साथ ककककर की शांति, खुशहाली और सहअस्तित्व को पुनस्थार्पित करने के लिए एक विस्तारपूर्वक चर्चा भी की।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
You have used all of your free pageviews.
Please subscribe to access more content.
Dismiss
Please register to access this content.
To continue viewing the content you love, please sign in or create a new account
Dismiss
You must subscribe to access this content.
To continue viewing the content you love, please choose one of our subscriptions today.