Jammu : हजारों विद्यार्थियों ने दी पैरामेडिकल कोर्स के लिए परीक्षा

जम्मू जिले में सबसे अधिक 7511 विद्यार्थियों ने परीक्षा दी

जम्मू-कश्मीर के विभिन्न जिलों में बने परीक्षा केंद्रों में विभिन्न पैरामेडिकल कोर्स के लिए परीक्षाओं में भाग लिया। परीक्षा देने वालों में कोट भलवाल जेल में बंद आतंकी भी शामिल था। उसे एनआइए ने कुछ महीने पूर्व जम्मू से हिरासत में लिया था। उसने जीएनएम कोर्स के लिए परीक्षा दी।

Lokesh Chandra MishraSun, 11 Apr 2021 09:34 PM (IST)

जम्मू, राज्य ब्यूरो : कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए बनी एसओपी का पालन करते हुए रविवार को हजारों विद्यार्थियों ने जम्मू-कश्मीर के विभिन्न जिलों में बने परीक्षा केंद्रों में विभिन्न पैरामेडिकल कोर्स के लिए आयोजित परीक्षाओं में भाग लिया। परीक्षा देने वालों में कोट भलवाल जेल में बंद आतंकी भी शामिल था। उसे एनआइए ने कुछ महीने पूर्व जम्मू से हिरासत में लिया था। उसने जीएनएम कोर्स के लिए परीक्षा दी। यह पहली बार है कि पैरामेडिकल काउंसिल ने किसी कैदी की परीक्षा ली हो।

जम्मू-कश्मीर पैरामेडिकल काउंसिल ने मेडिकल असिस्टेंट लेबोरेटरी असिस्टेंट, आप्थालमिक असिस्टेंट, एक्स-रे टेक्निशयन, डेंटल असिस्टेंट, सेनेटरी इंस्पेक्टर, जीएनएम, मेल और फीमेल मल्टीपर्पस वर्कर्स कोर्स के लिए जम्मू संभाग में जम्मू, कठुआ, ऊधमपुर, राजौरी, पुंछ, डोडा, किश्तवाड़ और रामबन जिलों में परीक्षा केंद्र बनाए हुए थे। इन सभी में बड़ी संख्या में विद्यार्थी बैठे। जम्मू जिले में सबसे अधिक 7511 विद्यार्थियों ने परीक्षा दी जबकि कठुआ जिले में 2197, ऊधमपुर में 890, राजौरी में 506, पुंछ जिले में 647, डोडा में 875, किश्तवाड़ में 391 और रामबन जिले में 270 विद्यार्थी बैठे।

वहीं कोट भलवाल जेल में बंद एक आतंकवादी के लिए भी अलग से परीक्षा केंद्र बनाया गया था। पैरामेडिकल काउंसिल की टीम आतंकी का पेपर देने के लिए तैनात थी। यह आतंकी डालफिन इंस्टीटयूट आफ पैरामेडिकल का विद्यार्थी था और इसे कुछ महीने पूर्व जम्मू में आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में एनआइए ने हिरासत में लिया था। उक्त आतंकी हाईकोर्ट के निर्देशों पर परीक्षा में बैठा है। पैरामेडिकल काउंसिल के कंट्रोलर डा. एएस भाटिया ने बताया कि सभी केंद्रों में परीक्षा शांतिपूर्वक हुई। कहीं पर से भी किसी भी प्रकार के नियमों के उल्लंघन का कोई मामला देखने को नहीं मिला है।

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए एसअेापी का पालन किया गया था। उन्होंने बताया कि इस बार पचास फीसद पाठ्य्रम में छूट थी। विद्यार्थियों को कुल 25 में से 13 प्रश्न हल करने थे। यह सभी तीन-तीन अंक के थे। विद्यार्थी इसमें से जितने अंक लेंगे, उन्हें दोगुना कर दिया जाएगा। वहीं पैरामेडिकल काउंसिल की प्रधान डा. शशि सूदन ने गुरू गोविद सिंह पैरामेडिकल कालेज में गईं और उन्होंने वहां पर परीक्षा का निरीक्षण किया। इस दौरान परीक्षा केंद्रों में सैनिटाइजर और मास्क भी रखे गए थे।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.