Coronavirus in Jammu Kashmir : श्रीनगर फिर से बन रहा बड़ा हाटस्पाट, आने वाले मामलों में 50% श्रीनगर से

Coronavirus in Jammu Kashmir नेशनल हेल्थ मिशन से मिले आंकड़ों के अनुसार गत एक सप्ताह में आए 856 मामलों में से 446 मामले श्रीनगर जिले से आए हैं। इससे स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग के अलावा श्रीनगर प्रशासन भी चिंतनीय है।

Rahul SharmaTue, 14 Sep 2021 01:54 PM (IST)
कोविड प्रोटोकाल के लिहाज से इन जोन को सील कर दिया गया है।

जम्मू, राज्य ब्यूरो : जम्मू-कश्मीर में बेशक कुछ दिनों से मामले कम आ रहे हैं लेकिन श्रीनगर जिला फिर से बड़ा हाट स्पाट बनता जा रहा है। प्रदेश में आने वाले कुल मामलों में से पचास फीसद मामले श्रीनगर जिले से आ रहे हैं। यही नहीं कुल सक्रिय मरीजों में भी पचास फीसद मरीज श्रीनगर जिले के ही है। यही नहीं कुल मौतों में से भी बीस फीसद मौतें श्रीनगर जिले में ही हुई हैं।

नेशनल हेल्थ मिशन से मिले आंकड़ों के अनुसार गत एक सप्ताह में आए 856 मामलों में से 446 मामले श्रीनगर जिले से आए हैं। इससे स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग के अलावा श्रीनगर प्रशासन भी चिंतनीय है। प्रशासन ने अब श्रीनगर में संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए कदम उठाना शुरू कर दिए हैं। 21 माइक्रो कंटेनमेंट जोन बना दी गई है। कोविड प्रोटोकाल के लिहाज से इन जोन को सील कर दिया गया है।

यही नहीं जो भी कोविड प्रोटोकाल का उल्लंघन कर रहा है, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है। एफआईआर भी दर्ज की जा रही है। श्रीनगर जिला प्रशासन का कहना है कि गत दो सप्ताह सो श्रीनगर में संक्रमण के मामले बढ़े हें। इसी को देखते हुए जिन स्थानों पर अधिक मामले आ रहे हैं, वहां पर माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाई जा रही हैं। बहुत से लोग ऐसे हैं जो कि प्रोटोकाल का पालन नहीं कर रहे हैं। अब इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।

श्रीनगर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि कई जगहों पर शादियों में भी देखा जा रहा है तय सीमा के उलट अधिक लोगों को समारोह में शामिल किया जा रहा है। इससे भी संक्रमण फैलने की आशंका बनी रहती है। अब ऐसे स्थानों पर भी जांच की जा रही है ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

श्रीनगर जिले में अभी तक सबसे अधिक 73,159 कोविड के मामले आए हें। इनमें से 837 की मौत हो चुकी है। अभी कुल 1247 सक्रिय मामलों में से 604 श्रीनगर जिले के हैं। श्रीनगर जिले के अस्पतालों में ही अभी सबसे अधिक मरीज भर्ती हैं। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.