top menutop menutop menu

स्पोटर्स काउंसिल की सेंट्रल खेल अधिकारी ने सोशल मीडिया पर भारत विरोधी टिप्पणी की, बाद में हटाई

स्पोटर्स काउंसिल की सेंट्रल खेल अधिकारी ने सोशल मीडिया पर भारत विरोधी टिप्पणी की, बाद में हटाई
Publish Date:Wed, 05 Aug 2020 03:24 PM (IST) Author: Rahul Sharma

जम्मू, विकास अबरोल: जम्मू-कश्मीर स्पोटर्स काउंसिल (जेकेएससी) की एक वरिष्ठ खेल अधिकारी ने बुधवार को सोशल मीडिया पर भारत विरोधी टिप्पणी की है। जब विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को इस बाबत बताया गया तो उक्त अधिकारी ने तुरंत सोशल मीडिया में की गई टिप्पणी पर खेद जताते हुए सोशल मीडिया के ग्रुप से स्वयं को बाहर कर दिया।

जम्मू-कश्मीर स्पोटर्स काउंसिल की सेंट्रल स्पोटर्स आफिसर नुसरत गजाला ने एक व्हाट्सएप्प ग्रुप में पोस्ट कि अमेरिका के टाइम्स स्क्वेयर पर कश्मीरी और पाकिस्तानी मिलकर भारत की जबरन धारा 370 हटाए जाने का विरोध करेंगे। दुनिया, भारत की इस नाजायज हरकत पर अपनी आंखें मूंद कर नहीं रख सकती।उसने जम्मू-कश्मीर को इंडियन आक्युपाइड जम्मू-कश्मीर की भी संज्ञा दी है।हालांकि जिस ग्रुप में कश्मीर की उक्त खेल अधिकारी ने भारत विरोधी टिप्पणी की उस ग्रुप में देशभर के विभिन्न खेलों से जुड़े कोच भी हैं। अधिकतर ने इसका विरोध भी जताया।

इस संबंध में जब जम्मू-कश्मीर स्पोटर्स काउंसिल के सचिव डॉ. नसीम जावेद चौधरी से मोबाइल के माध्यम से संपर्क किया तो उनसे संपर्क नहीं हो पाया जबकि व्हाटसएप्प ग्रुप के माध्यम से उन्हें इस मामले के बारे में बताया गया तो उन्होंने इस बारे अनभिज्ञता जताई।

इसी बीच स्पोटर्स काउंसिल के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि काउंसिल के सचिव ने उक्त अधिकारी से संपर्क किया और इस तमाम घटनाक्रम के उपरांत स्पोटर्स काउंसिल की सेंट्रल स्पोटर्स आफिसर नुसरत गजाला ने भारत विरोधी टिप्पणी करने वाले उसे व्हाट्सएप्प ग्रुप में पोस्ट कि उनका व्हाटसएप्प ग्रुप का अकाउंट किसी राष्ट्रविरोधी ने हैक कर दिया था।देश विरोधी टिप्पणी किए जाने पर मुझे खेद है। मैं फौरन इस ग्रुप से बाहर निकल रही हूं और एक बार फिर बताना चाहती हूं कि देश विरोधी टिप्पणी से उनका कोई भी संबंध नहीं है और न ही उन्होंने ऐसी कोई टिप्पणी की है।

हैरानगी की बात यह है कि कैसे कोई व्हाटसएप्प ग्रुप को हैक कर सकता है। गौरतलब है कि पहले भी कई सरकारी मुलाजिमों पर देश विरोधी टिप्पणी करने पर सरकारी की गाज गिर चुकी है और उम्मीद है कि उक्त अधिकारी के खिलाफ भी जल्द से जल्द सख्त कार्रवाई की जाएगी।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.