Mata Vaishno Devi: शारदीय नवरात्रों से पहले माता के भक्तों के लिए 20 ग्राम चांदी का स्मारिका सिक्का जारी

Shri Mata Vaishno Devi Shrine Board बोर्ड के सदस्यों ने सभी परियोजनाओं को समय पर पूरा करने के निर्देश दिए। बोर्ड ने सीईओ को यह भी कहा कि वह यात्रा मार्ग पर हाईटेक वीडियो वाल स्थापित करवाए जिससे कि विज्ञापन पालिसी को बढ़ावा दिया जाए।

Rahul SharmaFri, 17 Sep 2021 08:38 AM (IST)
बोर्ड ने सीईओ को निर्देश दिए कि दुर्गा भवन का काम 12 महीनों में पूरा हो।

जम्मू, राज्य ब्यूरो : उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने माता वैष्णो देवी के करोड़ों भक्तों के लिए शरदीय नवरात्र और दीपावली से पहले बीस ग्राम चांदी का स्मारिका सिक्का जारी किया। इससे पहले भी श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड दो ग्राम, पांच ग्राम, दस ग्राम के सोने और चांदी के सिक्के जारी कर चुका है। इन पर माता वैष्णो देवी के चित्र है। इनकी कीमत सेने और चांदी की किमनों पर निर्भर करती है। यह सिक्के भवन, जम्मू एयरपोर्ट, कटड़ा और वैष्णवी धाम में उपलब्ध हैं। इसके अलावा उपराज्यपाल ने डिजिटल लाइब्रेरी को ई-उदघाटन किया। यह लाइब्रेरी कटड़ा में बनाई गई है।

बैठक में बोर्ड के सदस्य श्रीश्री रवि शंकर, डा. अशोक भान, सेवानिवृत्त जस्टिस प्रमोद कोहली, केके शर्मा, सेवानिवृत्त मेजर जनरल शिव कुमार शर्मा, केबी काचरू, विजय धर ने बैठक में भाग लिया। उपराज्यपाल ने बैठक के दौरान कहा कि बोर्ड श्रद्धालुओं के अनुसार ढांचागत सुविधाएं उपलब्ध करवाएगा। उन्होंने श्रद्धलुओं को सभी सुविधाएं विशेतौर पर सफाई की ओर ध्यान केंद्रित किया।

बैठक की शुरूआत में बोर्ड के सदस्यों ने इस वर्ष माता वैष्णो देवी के दर्शनों के लिए आने वाले श्रद्धालुओं और उन्हें उपलब्ध करवाई जाने वाली सुविधाओं की समीक्षा की। इस बार कावेविड के कारण यात्रा में कमी आई है। इस पर भी चर्चा हुई कि आने वाले दिनों में श्रदध्लुओं की संख्या को किस तरह से बढ़ाया जाए। बैठक के दौरान नारायणा अस्पताल, श्री माता वैष्णो देवी नर्सिंग कालेज, गुरूकुल, स्पोटस काप्लेंक्स के बारे में भी जानकारी दी गई।

यात्रियों की सुविधा के लिए शुरू किए गए मेगा प्रोजेक्ट पर बोर्ड ने सीईओ को निर्देश दिए कि दुर्गा भवन का काम 12 महीनों में पूरा हो। इसे अगस्त 2022 तक पूरा करने की समयसीमा तय की गई।

बोर्ड के सदस्यों ने कटड़ा से भवन और उसके आसपास के क्षेत्रों में भूमिगत तारें बिछाए जाने की भी समीक्षा की। यह काम गाजियाबाद की मैसर्स जेएसपी कंपनी को दिया गया है जिसने जम्मू-कश्मीर का बिजली विभाग भी सहयोग कर रहा है। इस परियोजना से सिर के ऊपर से गुजरने वाली बिजली की तारों को भूमिगत किया जाएगा ताकि भवन और उसके मार्ग पर बिजली की आपूर्ति को 24 घंटे सुनिश्चित किया जा सके।

बोर्ड के सदस्यों ने सभी परियोजनाओं को समय पर पूरा करने के निर्देश दिए। बोर्ड ने सीईओ को यह भी कहा कि वह यात्रा मार्ग पर हाईटेक वीडियो वाल स्थापित करवाए जिससे कि विज्ञापन पालिसी को बढ़ावा दिया जाए।

बैठक के दौरान बोर्ड ने मौजूदा वित्त वर्ष 2021 और 2022 के लिए अनुदान राशि को भी मंजूरी दी। यात्रियों को बेहतर सूचना तंत्र से जोड़ने के लिए काल सेंटर स्थापित करने पर जोर दिया गया। काल सेंटर स्थापित होने से देश विदेश से आने वाले यात्रियों को सुविधा होगी। वह मौसम और मौजूदा हालात को देखते हुए यात्रा पर आ सकेंगे। वर्ष 2020 और 2021 की हरित योजना की कार्ययोजना की भी समीक्षा की गई। कर्मचारियों के कल्याण के लिए कई अहम फैसले लिए गए। इनमें मानवीय आधार पर नियुक्तियां, उच्च शिक्षा के लिए लाभ देना शामिल हें। बोर्ड ने माता वैष्णो देवी बोर्ड में डेपूटेशन पर नियुक्त अणिकारियों को फिर से डेपूटेशन देने की भी मंजूरी दी।

कटड़ा में शंकराचार्य मंदिर को पूरा करने की लंबित मांग पर भी चर्चा हुई। मुख्य कार्यकारी अधिकारी रमेश कुमार ने बोर्ड द्वारा चलाई जा रही विभिन्न गतिविधियों का ब्यौरा पेश किया। उन्होंने बताया कि डिजिटल लाइब्रेरी से दूसरी किताबों के रखरखाब पर आने वाला खर्च कम हो जाएगा। इससे छात्रों और फैकल्टी के सदस्यों दोनों को लाभ होगा। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.