Jammu : आईआईटी जम्मू के मार्गदर्शन में बनेंगे स्मार्ट सिटी के प्रोजेक्ट

जम्मू स्मार्ट सिटी लिमिटेड (जेएससीएल) ने शहर के भविष्य के विकास में आईआईटी विशेषज्ञता का उपयोग करने के लिए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) जम्मू के साथ एक समझौता किया। इस समझौता पत्र पर आईआईटी जम्मू के निदेशक प्रो. मनोज सिंह गौड़ और जेएससीएल की सीईओ अवनी लवासा ने हस्ताक्षर किए।

Lokesh Chandra MishraThu, 23 Sep 2021 09:00 PM (IST)
विभिन्न प्रोजेक्ट अब आइआइटी जम्मू के मार्गदर्शन में पूरे होंगे।

जम्मू, जागरण संवाददाता : जम्मू को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए भविष्य में बनाए जाने वाले विभिन्न प्रोजेक्ट अब आइआइटी जम्मू के मार्गदर्शन में पूरे होंगे। आइआइटी के विशेषज्ञों से विचार-विमर्श करने के बाद ही स्मार्ट सिटी के प्रोजेक्ट्स आगे बढ़ेंगे। इससे समय की बर्बादी तो कम होगी ही, प्रोजेक्ट की गुणवत्ता भी बढ़ेगी।

वीरवार को जम्मू स्मार्ट सिटी लिमिटेड (जेएससीएल) ने शहर के भविष्य के विकास में आइआइटी विशेषज्ञता का उपयोग करने के लिए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आइआइटी) जम्मू के साथ एक समझौता किया। इस समझौता पत्र पर आइआइटी जम्मू के निदेशक प्रो. मनोज सिंह गौड़ और जेएससीएल की सीईओ अवनी लवासा ने हस्ताक्षर किए। जेएससीएल के अनुसार आइआइटी जम्मू के व्यावसायिक मार्गदर्शन में जम्मू को स्मार्ट सिटी बनाया जाएगा।

आइआइटी शहरी गतिशीलता, शहर सौंदर्यीकरण और विकास, विरासत और पर्यटन, ई-गवर्नेंस और आइटी हस्तक्षेप, कचरा प्रबंधन, रिवरफ्रंट डेवलपमेंट के कार्यों में मार्गदर्शन करेगी। इतना ही नहीं आइआइटी जम्मू स्मार्ट सिटी लिमिटेड की टीम को आईआईटी लाइब्रेरी और तकनीकी जानकारियों काे भी उपलब्ध करवाएगी।

समझौते के अनुसार आइआइटी जम्मू, जेएससीएल द्वारा पहचाने गए अध्ययनों के लिए प्रशिक्षकों के रूप में कर्मचारियों और संकायों को आवंटित करेगा। आंकड़े जुटाने, शोध और लोगों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए प्रोजेक्ट्स को पूरा करवाया जाएगा। इतना ही जेएससीएल द्वारा उल्लिखित उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए भारत या विदेश में इस विषय पर काम करने वाले अन्य शैक्षणिक-अनुसंधान संस्थानों, सलाहकारों, उद्योगों का समर्थन प्राप्त करेगा। यह पारस्परिक रूप से सहमत उद्देश्यों को प्राप्त करने में जेएससीएल के टीम सदस्यों या पहचाने गए व्यक्तियों को जेएससीएल जम्मू पुस्तकालय और अन्य तकनीकी संसाधनों तक पहुंच प्रदान करेगा।

दूसरी ओर जेएससीएल प्रासंगिक डेटा संग्रह, संगोष्ठियों के संचालन, नागरिक आउटरीच कार्यक्रमों आदि के लिए आइआइटी जम्मू को सहायता प्रदान करेगा। इसके अलावा यह आइआइटी जम्मू के छात्रों के लिए इंटर्नशिप और बाहरी छात्रों को स्मार्ट सिटी और संबंधित परियोजनाओं पर काम करने के लिए परामर्श भी प्रदान करेगा। यह भी निर्णय लिया गया कि समझौता ज्ञापन के तहत परियोजनाओं की शुरुआत की सुविधा के लिए एक संयुक्त कार्य समूह (जेडब्ल्यूजी) का गठन किया जाएगा।

इसमें आइआइटी, जम्मू में संबंधित विभागों के प्रमुख और संकाय और समान स्तर पर जेएससीएल के संबंधित सदस्य होंगे। समझौता ज्ञापन शुरू में हस्ताक्षर की तारीख से दो साल की अवधि के लिए लागू रहेगा और आपसी सहमति से इसे आगे बढ़ाया जा सकता है। जेएससीएल के एडीशनल सीईओ हितेश गुप्ता का कहना है कि अाईआईटी जम्मू सलाहकार की भूमिका में रहेगी। जेएससीएल की टीमें उनसे तकनीकी व अन्य परामर्श लेकर काम करेंगी। इससे योजनाओं को अमलीजामा पहनाने में दिक्कतें नहीं होंगी और भविष्य में लाभकारी सिद्ध होंगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.