कश्मीर में पंडिताें और सिखों की सुरक्षा को और पुख्ता बनाए जाने की जरूरत : चरंगु

भाजपा के वरिष्ठ नेता अश्विनी कुमार चरंगु ने कहा है कि खुफिया एजेंसियों की इस बारे में दी जा रही सूचनाओं को गंभीरता से लिया जाए। घाटी में रह रहे पंडित व सिख इस समय खतरे में हैं।

Lokesh Chandra MishraPublish:Tue, 30 Nov 2021 09:24 AM (IST) Updated:Tue, 30 Nov 2021 09:24 AM (IST)
कश्मीर में पंडिताें और सिखों की सुरक्षा को और पुख्ता बनाए जाने की जरूरत : चरंगु
कश्मीर में पंडिताें और सिखों की सुरक्षा को और पुख्ता बनाए जाने की जरूरत : चरंगु

जम्मू, राज्य ब्यूरो : प्रदेश भाजपा ने कश्मीर में रहे रहे पंडितों व सिखों की सुरक्षा को पुख्ता बनाने के लिए अतिरिक्त कदम उठाने पर जोर दिया है। सीमा पार से आतंकवादियों को कश्मीर में अल्पसंख्यकों पर हमलों में तेजी लाने के लिए मिल रहे निर्देशों का हवाला देते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता अश्विनी कुमार चरंगु ने कहा है कि खुफिया एजेंसियों की इस बारे में दी जा रही सूचनाओं को गंभीरता से लिया जाए। घाटी में रह रहे पंडित व सिख इस समय खतरे में हैं। चरंगु ने सोमवार को जारी बयान में कहा है कि इस समय कश्मीर में अल्पसंख्यक खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से सुरक्षा को बेहतर बनाने के लिए कार्रवाई की जा रही है, लेकिन यह जरूरी है कि प्रशासन भी ऐसे कदम उठाए जिससे कश्मीरी पंडितों व सिखों की विश्वास बहाली हो सके। चरंगु से पहले भाजपा के प्रवक्ता व पूर्व एमएलसी ने गिरघारी लाल रैना ने भी इस समय कश्मीर में रह रहे अल्पसंख्यकों का सुरक्षा आडिट करने पर जोर दिया था। रैना ने जम्मू में इस मुद्दे पर उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से भेंट कर कहा था कि कश्मीर में आतंकवादियों के अल्पसंख्यकों की चुनिंदा हत्याएं करने से कश्मीरी हिंदुओं पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। उनका मनोबल गिरा है। इसलिए प्रशासन को उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए।

अल्ताफ बुखारी ने कहा- पीडीपी भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी की उपज

जम्मू कश्मीर अपनी प्रधान के प्रधान अल्ताफ बुखारी ने पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी काे भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी की उपज बताया है। सोमवार को श्रीनगर में मीडिया से बातचीत करते हुए बुखारी ने कहा कि पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के गठन के पीछे आडवानी का दिमाग था। आज यह पार्टी लोगों को गुमराह करने की राजनीति कर उन्हें कब्रिस्तान की ओर धकेलने की कोशिश कर रही है।

विधानसभा चुनाव की तैयारियों संबंधी एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि आज पीडीपी का कोई आधार नहीं है। यह पार्टी जमीन पर कहीं भी दिखाई नहीं दे रही है। बुखारी भाजपा-पीडीपी सरकार में शिक्षा मंत्री के अहम पद पर रहे हैं। कुछ समय पहले उन्होंने पीडीपी छोड़कर जम्मू कश्मीर अपनी पार्टी का गठन किया था। उनके साथ पीडीपी के अन्य कई विधायक भी पीडीपी छोड़कर अपनी पार्टी में आ गए थे। आज कश्मीर की सियासत में अपनी पार्टी पीडीपी व नेशनल कांफ्रेस को कड़ी टक्कर दे रही है।