28 को हड़ताल पर अड़ी सफाई कर्मचारी यूनियन

28 को हड़ताल पर अड़ी सफाई कर्मचारी यूनियन
Publish Date:Thu, 24 Sep 2020 05:28 AM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, जम्मू : जम्मू नगर निगम की सिविक सफाई कर्मचारी यूनियन के बैनर तले शहर के सभी सफाई कर्मचारी 28 सितंबर को हड़ताल पर जाने की तैयारी कर रहे हैं। इसके लिए यूनियन नेताओं ने वार्डों में जाकर सफाई कर्मचारियों से समर्थन जुटाना शुरू किया है।

बुधवार को यूनियन के प्रधान देवानंद गिल ने शहर के वार्ड नंबर 20, 21, 47, 48, 72 और 73 में जाकर सफाई कर्मचारियों के साथ बैठकें की और उनका समर्थन हासिल किया। अधिकतर कर्मचारी प्रशासन के फैसलों और यूनियन की मांगों के समर्थन में हड़ताल के लिए तैयार हैं। जगह-जगह कर्मचारी एकजुट होकर नारेबाजी करने के साथ जयघोश लगा रहे हैं। सिविक सफाई कर्मचारी यूनियन व राष्ट्रीय मजदूर संघ के प्रधान देवानंद गिल का कहना है कि हमने नोटिस देकर 15 दिन का समय दिया। 27 सितंबर तक हमारे साथ कोई बातचीत नहीं होती तो फिर हड़ताल मजबूरी हो जाएगी। शहर में कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है। हम नहीं चाहते कि शहर में गंदगी के ढेर लगें लेकिन जम्मू नगर निगम प्रशासन जाने क्यों कर्मचारियों के साथ बात तक नहीं कर रहा। हमें मजबूरी में शहर में साफ-सफाई बंद करनी पड़ेगी। इसके लिए निगम प्रशासन और राज्य प्रशासन दोषी होगा। उन्होंने कहा कि विभिन्न वार्डों में जाकर बैठकें की जा रही हैं। सभी सफाई कर्मचारी एकजुट हो चुके हैं। जोरशोर से काम छोड़ो हड़ताल करते हुए हम अपनी मांगें मनवा लेंगे। इसके लिए निगम प्रशासन, मेयर, डिवीजनल कमिश्नर, मुख्य सचिव को भी उन्होंने पत्र लिखे हैं। सफाई कर्मचारी यूनियन मोबाइल ऐप के जरिए हाजिरी लगाए जाने की व्यवस्था को बंद करने, सफाई कर्मचारियों का वेतन बढ़ाने, नगर निगम का पुनर्गठन करने, एनजीओ सफाई कर्मियों को कैजुअल करने, नौ महीने से लंबित अढ़ाई दिन का वेतन जारी करने, हार्डवर्कशिप एलाउंस जारी करने, सफाई कर्मचारियों को समय में छूट देने, कैजुअल और एनजीओ सफाई कर्मचारियों के लिए रविवार की छुट्टी घोषित करने और हर वार्ड में सब आफिस दिए जाने की मांग को लेकर हड़ताल पर जाने की तैयारी में हैं। हालांकि यूनियन नेताओं में भी फूट दिख रही है लेकिन कर्मचारी अपने फायदे को देखते हुए हड़ताल को समर्थन करते दिख रहे हैं। गिल का कहना है कि निगम आयुक्त सफाई कर्मचारियों से भेदभाव कर रही है। यूनियन को बांट कर गरीब कर्मियों का नुकसान करने की साजिश नाकाम हो जाएगी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.