Jammu: अभिभावकों को एक दुकान से पुस्तकें खरीदने के लिए बाध्य नहीं कर सकते स्कूल, होगी कार्रवाई

बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाते समय वर्दियों का पहनना अनिवार्य करना भी गलत है।

Private Schools in Jammu आनलाइन पढ़ाई करते समय वर्दी पहनना विसंगत है। उन्होंने सभी स्कूलों से शिक्षा निदेशालय के आदेशों का सख्ती से पालन करने को कहा और स्पष्ट किया कि जो स्कूल आदेशों की अवेहलना करेंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

Rahul SharmaSun, 18 Apr 2021 10:15 AM (IST)

जम्मू, सुरेंद्र सिंह: नए शिक्षा सत्र के शुरू होते ही अभिभावकाें से पैसा वसूलने के हथकंडे अपनाने वाले स्कूलों के लिए शिक्षा निदेशक जम्मू रवि शंकर शर्मा ने चेतावनी दी है। उन्होंने उन स्कूलों को खबरदार किया है जो अभिभावकों को एक ही दुकान से पुस्तकें व अन्य स्टेशनरी खरीदने के लिए मजबूर कर रहे हैं और ऐसा करने वाले स्कूलों के खिलाफ शिक्षा निदेशक ने कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है।

एक आदेश जारी कर शिक्षा निदेशक ने कहा कि उन्हें कई लोगों से शिकायतें मिल रही हैं कि कुछ स्कूल उनसे बच्चों के लिए एक ही दुकान से पुस्तकें, स्टेशनरी खरीदने के लिए दबाव बना रहे हैं। ऐसे में कोरोना के बीच उन दुकानों से पुस्तकें लेने में कतारें लग गई हैं जहां जाना खतरे से खाली नहीं हैं।

वहीं इन शिकायतों पर कार्रवाई करते हुए शिक्षा निदेशक ने सभी स्कूलों विशेषकर निजी स्कूलों को निर्देश दिए हैं कि वे अपनी वेबसाइट पर उन पुस्तकों का ब्याैर दें जो उन्होंने हर कक्षा में बच्चों को पढ़ानी हैं। वे पुस्तके शिक्षा बोर्ड से मान्यता प्राप्त हो और उनमें कोई ऐसी पुस्तक न हो जो बिना जरूरत के बच्चों को पढ़ाई जाए। उन्होंने बच्चों से जबरन वर्दियां खरीदने का दबाव बनाने व ऑनलाइन पढ़ते समय उन्हें पहनने के आदेश को खारिज करते हुए कहा कि यह पूरी तरह से विसंगत हैं।

ऑनलाइन पढ़ाई करते समय वर्दी पहनना विसंगत है। उन्होंने सभी स्कूलों से शिक्षा निदेशालय के आदेशों का सख्ती से पालन करने को कहा और स्पष्ट किया कि जो स्कूल आदेशों की अवेहलना करेंगे, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। उन्होंने पूरे संभाग के संबंधित जिलों के मुख्य शिक्षा अधिकारियों से इस पर नजर रखने के निर्देश भी जारी किए हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.