Jammu Kashmir: अनुच्छेद 370 पर बोलने वाले पाकिस्तान ने वर्ष 1974 में छीन लिए गिलगित बाल्टिस्तान के नागरिकों के अधिकार

ब्रिगेडियर राजेंद्र सिंह आडिटोरियम में संकल्प दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया

ब्रिगेडियर राजेंद्र सिंह आडिटोरियम में संकल्प दिवस कार्यक्रम में कैप्टन आलोक बंसल ने कहा कि पाकिस्तान के कब्जे में हमारे जम्मू कश्मीर के भाग गिलगित-बाल्टिस्तान में पाकिस्तान ने नागरिकों के अधिकार छीनते हुए 1974 में स्टेट सब्जेक्ट को समाप्त कर दिया अब वह पाकिस्तान हमारे उपर सवाल उठा रहा।

Lokesh Chandra MishraMon, 22 Feb 2021 03:59 PM (IST)

जम्मू, जागरण संवाददाता : जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद भारत के खिलाफ बोलने वाले पाकिस्तान की पोल एक बार फिर न्यू दिल्ली स्कूल आफ मैनेजमेंट के सहायक प्रोफेसर कैप्टन आलोक बंसल ने खाेली। जम्मू विश्वविद्यालय के ब्रिगेडियर राजेंद्र सिंह आडिटोरियम में आयोजित संकल्प दिवस कार्यक्रम में बोलते हुए उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के कब्जे में हमारे जम्मू कश्मीर के अहम भाग गिलगित-बाल्टिस्तान में पाकिस्तान ने नागरिकों के अधिकार छीनते हुए वर्ष 1974 में स्टेट सब्जेक्ट को समाप्त कर दिया था और अब वह पाकिस्तान हमारे उपर सवाल उठा रहा।

संकल्प दिवस का आयोजन जम्मू विवि के डिपार्टमेंट आफ स्ट्रेटजिक एंड रीजनल स्टडीज की ओर से पाकिस्तान अधिग्रहत जम्मू कश्मीर पर संसद में वर्ष 1994 मेें पारित प्रस्ताव के उपलक्ष्य पर किया गया, जिसमें कैप्टन अलोक बंसल मुख्य वक्ता थे। उन्होंने कहा कि इस प्रस्ताव को लोगों की भावना को देखते हुए संसद में पारित किया गया था, जिसमें स्पष्ट किया गया कि पाकिस्तान के कब्जे में जम्मू कश्मीर अखंड भारत का अटूट हिस्सा है और भारत का पूरा अधिकार है वह वहां की आवाज उठाए। उन्होंने कहा कि 27 वर्ष पहले जारी उस प्रस्ताव पर हम आज भी अडिग हैं। कोई भी देश अपना क्षेत्र तब तक गंवाता नहीं जब तक वह उस क्षेत्र को भूल न जाए। जहूदी उसकी मिसाल है, जिन्होंने हजारों वर्ष तक अपने क्षेत्र को पाने के लिए जद्दोजहद जारी रखी और आखिर उसे वापस ले ही लिया। उन्होंने पाकिस्तान के कब्जे में मीरपुर-मुजफराबाद और गिलगित-बाल्टिस्तान को लेकर कहा कि यह हमारे इलाके हैं और हम इसे वापस लेकर ही रहेंगे।

कैप्टन बंसल ने इस मौके पर इन इलाकों में पाकिस्तान के पूरे बर्चस्व बनाने के षड़यंत्र काे उजागर करते हुए कहा कि गिलगित-बाल्टिस्तान और मीरपुर-मुजफराबाद को पाकस्तान ने तीन तीन संभागों में बांट रखा है। वहां जनसांख्यिक बदलाव का षड़यंत्र रच पाकिस्तान ने 70 प्रतिशत आबादी मीरपुर-मुजफराबाद और 30 प्रतिशत आबादी गिलगित-बाल्टिस्तान में बाहरी बसा दी है। वहां पर धार्मिक कट्टरता भी फैलाई जा रही है और संस्कृति व भाषा को खत्म किया जा रहा है। इन्हीं इलाकों से कश्मीर में आतंकवाद के लिए घुसपैठ करवाई जा रही है। इस कार्यक्रम के आयोजन में जम्मू कश्मीर स्टडी सेंटर का सहयोग भी रहा। कार्यक्रम की अध्यक्षता जम्मू विवि के वाइस चांसलर प्रोफेसर मनोज धर ने किया जबकि कार्यक्रम में डीएसआरएस के डायरेक्टर प्रोफेसर अरुण शर्मा और जम्मू कश्मीर स्टडी सेंटर जम्मू कश्मीर चैप्टर के सचिव एडवोकेट हर्षवर्धन गुप्ता भी मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन डा: मुनीर आलम ने किया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.