Jammu Kashmir: नईम अख्तर एमएलए हॉस्टल से रिहा, फिलहाल घर पर नजरबंद

पूर्व नौकरशाह नईम अख्तर को प्रदेश सरकार ने 21 दिसंबर 2020 को एहतियात के तौर पर बंदी बनाया था।

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व शिक्षा मंत्री नईम अख्तर को लगभग साढ़े चार माह बाद प्रदेश प्रशासन ने सोमवार को रिहा कर दिया। फिलहाल उन्हें उनके घर में नजरबंद रखा गया है। नेता सरताज मदनी काे भी जल्द ही रिहा किए जाने की संभावना है।

Vikas AbrolMon, 10 May 2021 07:15 PM (IST)

श्रीनगर, राज्य ब्यूरो। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व शिक्षा मंत्री नईम अख्तर को लगभग साढ़े चार माह बाद प्रदेश प्रशासन ने सोमवार को रिहा कर दिया। फिलहाल, उन्हें उनके घर में नजरबंद रखा गया है। इस बीच, पीडीपी के अन्य नेता सरताज मदनी काे भी जल्द ही रिहा किए जाने की संबधित अधिकारियों ने संभावना व्यक्त की है।

पूर्व नौकरशाह नईम अख्तर को प्रदेश सरकार ने 21 दिसंबर 2020 को एहतियात के तौर पर बंदी बनाया था। उन्हें एमएलए हॉस्टल श्रीनगर में बनाई गई पूरक जेल में रखा गया था। जेल में एक दिन उनकी तबीयत भी अचानक बिगड़ गई थी और उन्हें उपचार के लिए अस्पताल ले जाया गया था। 21 दिसंबर को बंदी बनाए जाने से पूर्व प्रदेश सरकार ने नईम अख्तर को 10 माह की कैद बाद पांच अगस्त 2020 को रिहा किया था।

उन्हें चार अगस्त 2019 की रात को प्रदेश सरकार ने जम्मू कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम को लागू किए जाने के मददेनजर कानून व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए एहतियात के तौर पर गिरफ्तार किया था। बाद में उन्हें जन सुरक्षा अधिनियम के तहत बंदी बनाया गया था।

पीडीपी के प्रवक्ता नजम-उल-साकिब ने बताया कि नईम अख्तर को आज सुबह ही एमएलए हॉस्टल में बनाई गई जेल से रिहा किया गया है। उन्हें सदर पुलिस स्टेशन के हवाले किया गया। बाद में उन्हें उनके घर लाया गया और कुछ ही देर बाद एक पुलिसकर्मी ने उनसे कहा कि वह अपने घर के भीतर ही रहें, बाहर नहीं जाएं। उन्हें घर में नजरबंद किया गया है। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.