उपराज्यपाल मनोज सिन्हा बोले- जम्मू-कश्मीर के सभी जिलों में 2025 से पहले टीबी खत्म करने पर ध्यान केंद्रित करें

उन्होंने सभी जिला उपायुक्तों से अपने आउटरीच कार्यक्रमों में टीबी और नशे को दूर करने के लिए कदम उठाने को कहा। उन्होंने कहा कि हजारेां परिवार नशे से प्रभावित हैं। सरकार भी नशे को खत्म के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है।

Vikas AbrolPublish:Sat, 27 Nov 2021 09:32 AM (IST) Updated:Sat, 27 Nov 2021 09:32 AM (IST)
उपराज्यपाल मनोज सिन्हा बोले- जम्मू-कश्मीर के सभी जिलों में 2025 से पहले टीबी खत्म करने पर ध्यान केंद्रित करें
उपराज्यपाल मनोज सिन्हा बोले- जम्मू-कश्मीर के सभी जिलों में 2025 से पहले टीबी खत्म करने पर ध्यान केंद्रित करें

जम्मू, राज्य ब्यूरो। केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने सभी जिलों को 2025 की समय सीमा से पहले टीबी को पूरी तरह से खत्म करने के लिए दूर-दराज के क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करने को कहा।

नागरिक सचिवालय में जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रम की स्थिति की समीक्षा के दाैरान उन्होंने यह निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बीमारी का पता लगाना, उसका इलाज करना, बीमारी से बचाव सबसे अधिक कार्य योजना है। उन्होंने सभी जिला उपायुक्तों से अपने आउटरीच कार्यक्रमों में टीबी और नशे को दूर करने के लिए कदम उठाने को कहा। उन्होंने कहा कि हजारेां परिवार नशे से प्रभावित हैं। सरकार भी नशे को खत्म के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। उन्होंने टीबी के कारणों और लक्षणों के बारे में जागरूक करने के लिए अभियान चलाने को कहा।

उन्होंने टीबी से मौतों को रोकने के लिए समय पर जांच कर इलाज करने को कहा। उन्होंने कहा कि टीबी के मरीजों को वित्तीय सहायता सीधे उनके बैंक खातों में पहुंचाई जाए। निश्चय पोषण योजना केतहत उन्होंने सभी टीबी के मरीजों को पौष्टिक आहार उपलब्ध करवाने को कहा। स्वास्थ्य विभाग को टीबी को खत्म करने के लिए हर महीने समीक्षा बैठक आयोजित करने के निर्देश दिए गए। स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव विवेक भरद्वाज ने जिलावार टीवी के मामलों की जानकारी देने के अलावा उनके इलाज के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि बडगाम पहले से ही टीबी मुक्त हो चुका है। वहीं ऊधमपुर को भी कांस्य पदक मिला है। उपराज्यपाल के सलाहकार राजीव राय भटनागर, मुख्य सचिव डा. अरुण कुमार मेहता भी मौजूद थे।