Jammu : उपराज्यपाल का सभी वीसी को निर्देश, नई शिक्षा नीति को फास्ट ट्रैक पर लागू करें

वाइस चांसलरों और कालेजों के निदेशक ने उच्च शिक्षण संस्थानों में आजादी के अमृत महोत्सव के तहत आयोजित की गई गतिविधियों और कार्यक्रमों की जानकारी दी। बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपराज्यपाल ने कहा कि नई शिक्षा नीति को फास्ट ट्रैक पर लागू किया जाए

Lokesh Chandra MishraSun, 28 Nov 2021 08:51 PM (IST)
उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा है कि विश्वविद्यालयों को नवीनीकरण, इंक्यूबेशन में ज्यादा निवेश करना चाहिए।

जम्मू, राज्य ब्यूरो : उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने विश्वविद्यालयों के वाइस चांसलर से कहा है कि नई शिक्षा नीति-2020 को फास्ट ट्रैक पर लागू किया जाए। युवाओं के कौशल विकास और रोजगार पर विशेष ध्यान दिया जाए। स्थानीय भाषा और संस्कृति को बढ़ावा दिया जाए। विश्वविद्यालयों को नवीनीकरण, इंक्यूबेशन में ज्यादा निवेश करना चाहिए। हमारे युवाओं को भविष्य के लिए बेहतर अवसर मिलने चाहिए। समाज में महिलाओं की स्थिति को सशक्त बनाया जाए। उपराज्यपाल केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के विश्वविद्यालयों के वाइस चांसलर से रूबरू हुए और आजादी का अमृत महोत्सव के तहत विभिन्न कार्यक्रमों की समीक्षा की।

वाइस चांसलरों और कालेजों के निदेशक ने उच्च शिक्षण संस्थानों में आजादी के अमृत महोत्सव के तहत आयोजित की गई गतिविधियों और कार्यक्रमों की जानकारी दी। बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपराज्यपाल ने कहा कि नई शिक्षा नीति को फास्ट ट्रैक पर लागू किया जाए और इसी के आधार पाठ्यक्रम तैयार किया जाए और कोर्स शुरू किए जाएं। उन्होंने च्वाइंस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम के तहत पूरे कोर्स तब्दील करने और सांस्कृतिक मूल्यों वाले शुरू करने के लिए कार्य योजना बनाने पर जोर दिया। प्रोफेशनल एथिक्स, इंडियन नॉलेज सिस्टम, इनोवेशन, उधमिता, इंडस्ट्री 4.0 और कम्युनिकेशन स्किल के लिए कार्य योजना बननी चाहिए।

उपराज्यपाल ने कहा कि विद्यार्थियों के कौशल विकास और रोजगार पर ध्यान देने की जरूरत है। कहा कि जम्मू कश्मीर की खुशहाली और विकास में शिक्षाविद् अहम भूमिका निभा सकते हैं और रिसर्च का फायदा लैब से फील्ड तक पहुंचना चाहिए। उन्होंने कृषि विश्वविद्यालयों से कहा कि वह ऐसे नए तरीके तैयार करें जिससे किसानों की फसलों की कीमत लगाने की कम हो और उन्हें ज्यादा उत्पादन मिले। बैठक के दौरान उपराज्यपाल ने वोकेशनल कोर्स पाठ्यक्रम गतिविधियां, एक्सचेंज कार्यक्रम, शिक्षा का हिस्सा बनाए जाने पर जोर दिया और कहा कि मुद्दों का समाधान होना चाहिए। यह सुनिश्चित किया जाए कि समाज के कमजोर तबके के युवाओं को फायदा मिले और रिसर्च और नई तकनीक सामने आए।

उन्होंने कहा कि नशा मुक्ति अभियान पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। नशे के मुद्दे को लेकर जागरूकता चलाई जाए। केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के विकास में विश्वविद्यालयों की भूमिका को अहम करार देते हुए उपराज्यपाल ने कहा कि इंडस्ट्री के साथ तालमेल होना चाहिए। उपराज्यपाल ने नई शिक्षा नीति को लागू करने के लिए कार्य योजना तैयार करने को वाइस चांसलर के ग्रुप का गठन करने के लिए कहा और इसके लिए नियमित तौर पर बैठने होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में विश्वविद्यालयों और सौहार्द के बुनियादी मूल्यों को आजादी का अमृत महोत्सव का केंद्रीय विषय होना चाहिए।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.