Jammu Kashmir : ऑक्सीजन फिलिंग स्टेशनों का दौरा कर जांची क्षमता

ईरा के सीईओ डा. सईद आबिद रशीद शाह की अध्यक्षता में एक टीम ने ऑक्सीजन फीलिंग स्टेशनों का दौरा किया।
Publish Date:Mon, 28 Sep 2020 02:25 PM (IST) Author: Rahul Sharma

जम्मू, जागरण संवाददाता । जम्मू के अस्पतालों में ऑक्सीजन की सप्लाई को सुचारु रखने के लिए इकोनामिक रिकंस्ट्रक्शन एजेंसी (ईरा) के चीफ एग्जिक्यूटिव आफिसर (सीईओ) डा. सईद आबिद रशीद शाह की अध्यक्षता में एक टीम ने औद्योगिक क्षेत्र बड़ी ब्राह्मणा में ऑक्सीजन फीलिंग स्टेशनों का दौरा किया। उसके साथ मेकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के एसई राजीव गुप्ता, इंडस्ट्री एवं कामर्स डिपार्टमेंट के ज्वाइंट डायरेक्टर वेद प्रकाश, लीगल मेटोलाजी डिपार्टमेंट के डिप्टी कंट्रोल मनोज प्रभाकर टीम में शामिल थे।

आक्सीजन भरने की क्षमता की जांच की

टीम के सदस्यों ने कश्मीर ग्लास, आरएसएस गैस, वेली मिनरल और केमिकल जेके प्राइवेट लिमिटेड और अलाइड ग्लास में गए। सीईओ ने वहां आक्सीजन भरने की क्षमता की जांच की। उन्हें बताया गया कि कश्मीर गैस में प्रति दिन 240 से 260 सिलेंडर भरे जाते हैं। आरएसएस गैस में 380 से 400 सिलेंडर भरे जाते हैं। वेली मिनरल और केमिकल जेके प्राइवेट लिमिटेड में 250 से 280 सिलेंडर रोजाना भरे जा रहे हैं। अलाइड गैस में प्रति दिन 160 से 180 सिलेंडर भरे जा रहे हैं। सीईओ ईरा व टीम के अन्य सदस्यों ने स्वयं आक्सीजन भरे जाने की प्रक्रिया को देखा।

सिलेंडर में आक्सीजन के प्रेशर को भी जांचा

इसके अलावा सिलेंडर में आक्सीजन के प्रेशर को भी जांचा। उन्होंने आक्सीजन प्लांट के प्रबंधन को अस्पतालों में आक्सीजन सप्लाई में किसी प्रकार की कोताही ना बरतने को कहा। यदि उनकी ओर से सप्लाई को लेकर कोई कोताही बरती गई तो उनके विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहाकि कोरोना काल में सबकी जिम्मेदारी बनती है कि मुसीबत की इस घड़ी में अपना पूरा सहयोग दे, तभी इस महामारी से जीता जा सकेगा। उन्होंने अधिकारियों को आक्सीजन सप्लाई करने वाली इकाइयों के साथ मिलकर सप्लाई को सुचारु करने के लिए कहा।

इसी बीच शिवसेना ठाकरे ने अस्पतालों में चरमरा चुकी स्वस्थ्य इंतजामों को पटरी पर लाने की दिशा में सरकार से काम करने की अपील की है। शिवसेना डोगरा फ्रंट ने जीएमसी में ऑक्सीजन सिलेंडरों में धांधली का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि जीएमसी में जारी हेराफेरी का खेल खत्म होना चाहिए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.