सरकारी स्कूलों में भी मिल रही अच्छी सुविधा, अपने बच्चों का करवाएं दाखिला

लोगों को समझाएं कि सरकारी स्कूलों में भी वही सुविधा मिल रही है, जो प्राइवेट स्कूलों में मिलती है।

डीडीसी सदस्य धमेंद्र कुमार ने बच्चों को नोटबुक बांटी व मेधावी बच्चों को सम्मानित भी किया गया। लोगों से कहा गया कि सरकारी स्कूलों से बड़ी संख्या में बच्चे प्रतियोगी परीक्षाओं में पास होते हैं। इसलिए यह मानकर नहीं चलना चाहिए कि सरकारी स्कूलों में पढ़ाई अच्छी नहीं होती है।

Sun, 11 Apr 2021 06:14 AM (IST)

संवाद सहयोगी, बिश्नाह : गांव मखनपुर के सरकारी मिडिल स्कूल में शनिवार को जोनल एजुकेशन अधिकारी (जेडईओ) सुनीता गुप्ता की अध्यक्षता में जागरूकता शिविर लगाया गया। इसमें आओ स्कूल चलें हम के तहत कार्यक्रम किया गया। मुख्य अतिथि भाजपा के पूर्व एमएलसी रमेश अरोड़ा, डीडीसी सदस्य धर्मेद्र कुमार, भाजपा के राज्य कार्यकारिणी सदस्य नारायण दत्त शर्मा, भाजपा किसान मोर्चा के राज्य उप प्रधान सतीश भरती मौजूद थे।

इस मौके पर स्कूल में स्मार्ट कलास रूम का उद्घाटन किया गया। कार्यक्रम में अध्यापक व पंच, सरपंच भी उपस्थित रहे। आयोजन का उद्देश्य सरकारी स्कूल में बच्चों का दाखिला सुनिश्चित कराना और अच्छी शिक्षा देना। जोनल एजुकेशन आफिसर सुनीता गुप्ता ने कहा कि नया सत्र शुरू हो गया है।

हम चाहते हैं कि सरकारी स्कूल में बच्चों का दाखिला बढ़ाया जाए। लोग यह समझें कि अब सरकारी स्कूलों में भी बच्चों को बेहतर सुविधाएं मिल रही हैं। उसी उद्देश्य से आज हमने इस समारोह का आयोजन किया। पंच, सरपंच गांवों में जाकर लोगों को समझाएं कि सरकारी स्कूलों में भी वही सुविधा मिल रही है, जो प्राइवेट स्कूलों में मिलती है। इसीलिए ज्यादा से ज्यादा बच्चों को स्कूल में दाखिल करवाएं।

इस मौके पर डीडीसी सदस्य धमेंद्र कुमार ने बच्चों को नोटबुक बांटी व मेधावी बच्चों को सम्मानित भी किया गया। लोगों से कहा गया कि सरकारी स्कूलों से बड़ी संख्या में बच्चे प्रतियोगी परीक्षाओं में पास होते हैं। इसलिए यह मानकर नहीं चलना चाहिए कि सरकारी स्कूलों में पढ़ाई अच्छी नहीं होती है।

कई बड़े अधिकारी सरकारी स्कूलों से निकलकर ही इस मुकाम को हासिल किए हैं। इसलिए अपने बच्चों को बिना किसी झिझक के सरकारी स्कूलों में दाखिला करवाना चाहिए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.