चैंबर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्री जम्मू के चुनाव की उलटी गिनती शुरू, उम्मीदवार बाजारों में घूम-घूमकर मांग रहे हैं वोट

अब प्रचार का अंतिम दौर चल रहा है, उम्मीदवार पूरा दिन बाजारों में घूमकर अपने लिए वोट मांग रहे हैं।

चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्री जम्मू के बहुप्रतिष्ठित व बहुप्रतिक्षित चुनाव में अब दो दिन शेष रह गए है। चैंबर के छह पदाें के लिए 21 उम्मीदवार मैदान में है जो पिछले एक महीने से प्रचार में जुटे है।

Publish Date:Thu, 14 Jan 2021 05:30 PM (IST) Author: Vikas Abrol

जम्मू, जागरण संवाददाता। घड़ी की सुई और कैलेंडर पर तारीख तेजी से 17 जनवरी की ओर बढ़ रही है। जैसे-जैसे यह तारीख नजदीक आ रही है, वैसे-वैसे उन लोगों की धड़कने तेज हो रही है जो पिछले एक महीने से दिन-रात मतदाताओं के पास चक्कर काट रहे हैं। चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्री जम्मू के बहुप्रतिष्ठित व बहुप्रतिक्षित चुनाव में अब दो दिन शेष रह गए है।

चैंबर के छह पदाें के लिए 21 उम्मीदवार मैदान में है जो पिछले एक महीने से प्रचार में जुटे है। अब प्रचार का अंतिम दौर चल रहा है, ऐसे में उम्मीदवार पूरा-पूरा दिन बाजारों में घूम कर अपने लिए वोट मांग रहे हैं। सोशल मीडिया पर हजारों पोस्ट डाली जा रही है। चार साल के बाद हो रहे इस चुनाव में हर कोई अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए जीतोड़ मेहनत कर रहा है लेकिन इस बार मतदाताओं ने अपनी मुट्ठी बंद रखी है जिससे उम्मीदवारों की धड़कने लगातार बढ़ रही है।

इस बार सरकारी बाबू करवाएंगे मतदान

चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्री जम्मू के चुनाव पहली बार सरकारी बाबुओं की देखरेख में होंगे। चैंबर के इतिहास में पहली बार कोर्ट के निर्देश पर यह चुनाव हो रहे हैं। कोर्ट द्वारा नियुक्त रिसीवर रिटायर्ड जज सुरेश कुमार शर्मा ने मतदान के पूरे प्रबंध कर लिए हैं। इस बार महिला कालेज गांधी नगर में यह मतदान सुबह साढ़े दस बजे आरंभ होंगे। मतदान से पूर्व कालेज के सभागार में चैंबर की एजीएम होगी। चैंबर के 2209 योग्य मतदाताओं के लिए कालेज परिसर में पांच कक्षाओं में 11 वोटिंग बूथ बनाए गए हैं। कालेज के प्रोफेसर मतदान प्रक्रिया को सम्पन्न करवाएंगे और निर्वाचन कमेटी सभी उम्मीदवारों की मौजूदगी में कालेज सभागार में वोटों की गिनती करेगी। कोविड-19 गाइडलाइंस का पालन करते हुए इस बार कहीं पर भी उम्मीदवारों को प्रचार की अनुमति नहीं होगी। यहां तक कि इस बार चैंबर सदस्यों के लिए प्रीति भोज का भी कोई प्रबंध नहीं है।

हमारी भी कोई सुध लो जनाब

केंद्र सरकार की ओर से ऐतिहासिक औद्योगिक पैकेज की घोषणा की गई है जिसमें उद्योग के साथ सर्विस सेक्टर को भी बराबर की रियायत दी जा रही है लेकिन इस पैकेज में व्यापार व व्यापारियों की अनदेखी से व्यापार जगत में काफी निराशा है। व्यापार जगत के अनुसार उद्योग तो केवल सरकारी रियायत लेता है लेकिन व्यापारी खुद से मेहनत करके सरकार को टैक्स देता है। जम्मू-कश्मीर में उद्योग से ज्यादा रोजगार व्यापार जगत उपलब्ध कराता है। इन सबके बावजूद आज तक किसी सरकार ने व्यापार जगत को उभारने के बारे में नहीं सोचा। मोदी सरकार से उम्मीद थी कि वो शायद व्यापारियों के बारे में सोचेगी लेकिन मोदी सरकार ने भी पुरानी सरकारों की तरह केवल उद्योग पर ही दया दृष्टि की। ऐसे में प्रदेश का छोटा व्यापारी खत्म होता जाएगा क्योंकि बड़े-बड़े मल्टीनेशनल स्टोर खुलने से छोटा व्यापारी पहले ही दबाव में है।

पंजाब के व्यापारी लगाने लगे फेरियां

लखनपुर टोल टैक्स समाप्त होने के बाद अब पंजाब के व्यापारियों के लिए जम्मू में नया बाजार खुल गया है। पंजाब के जो व्यापारी पहले टोल टैक्स के कारण यहां पर अपना सामान बेचने नहीं आते थे, वो अब गाड़ियों में सामान लाद कर शहर में फेरियां लगाना शुरू हाे गए है। कठुआ व सांबा जिले में तो ये पंजाबी व्यापारी इन दिनों बाजारों में गाड़ी लगाकर सामान बेचते आम दिख रहे हैं। जम्मू शहर में भी इन दिनों हाईवे व साथ लगते बाजारों में ये पंजाबी व्यापारी गाड़ी में सामान लाद कर यहां लाते है और गाड़ी में दुकान सजाकर बिक्री कर रहे हैं। पंजाब का गुड़ हो, मक्की, लकड़ी का बैट या अन्य खेल सामग्री, ये व्यापारी हर चीज इन दिनों गाड़ी में लाद कर यहां बिक्री करने पहुंच रहे हैं। जम्मू-कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेश बनने व लखनपुर का बैरियर टूटने से इनके लिए पड़ोस में नया बाजार विकसित हुआ है जो आने वाले दिनों में और बढ़ेगा।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.