Jammu Kashmir: दलितों ने आरक्षण के हक में भरी हुंकार

कार्यकर्ताओं ने कहा कि केंद्र सरकार की नीतियां आरक्षित वर्ग के पक्ष में नहीं हैं।

निजीकरण से कम हो रही सरकारी नौकरियां आरक्षण पर हो रहे हमले आरक्षित वर्ग के कम होते अधिकारों के मुद्दे पर दलित ओबीसी माइनारिटी और नेशनल स्टूडेंट यूथ फ्रंट ने अंबेडकर चौक पर प्रदर्शन किया।पिछड़ी जातियों को मिलने वाले आरक्षण के लाभ को भाजपा सरकार खत्म करना चाह रही है।

Mon, 22 Feb 2021 05:35 AM (IST)

जम्मू, जागरण संवाददाता : निजीकरण से कम हो रही सरकारी नौकरियां, आरक्षण पर हो रहे हमले, आरक्षित वर्ग के कम होते अधिकारों के मुद्दे पर दलित, ओबीसी, माइनारिटी और नेशनल स्टूडेंट यूथ फ्रंट ने अंबेडकर चौक पर प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि पिछड़ी जातियों को मिलने वाले आरक्षण के लाभ को भाजपा सरकार खत्म करना चाह रही है।

बाबा साहब भीमराव आंबेडकर ने जो व्यवस्था दलितों को सामाजिक तौर पर उठाने के लिए बनाई थी, भाजपा चाहती है कि उसे खत्म कर दलितों को वर्षो पुराने हाल पर ला खड़ा किया जाए। इसको सहन नहीं किया जाएगा। कार्यकर्ताओं ने कहा कि केंद्र सरकार की नीतियां आरक्षित वर्ग के पक्ष में नहीं हैं।

प्रदेश अध्यक्ष आरके कल्सोत्रा ने कहा कि सरकार को कई बार इस संबंध में अवगत कराया जा चुका है, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। ऐसे में हमें अधिकारों की लड़ाई सशक्त तरीके से लड़नी होगी। जम्मू कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद भी जम्मू कश्मीर में बैक लाग में पड़े पदों को नहीं भरा गया है। आरक्षित वर्ग के बच्चों को समय पर वजीफे नहीं मिल पा रहे हैं। दैनिक भोगियों को नियमित नहीं किया जा रहा है। आरक्षित वर्ग के युवाओं के लिए विशेष पैकेज नहीं दिया जा रहा। इन मांगों के लिए आने वाले दिनों में आदोलन की रणनीति बनाई जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार जिस तरह से सरकारी विभागों का निजीकरण कर रही है उससे देश में नौकरियां खत्म हो जाएंगी, जिसका असर एससी, एसटी और माइनारिटी के लोगों को भुगतना होगा। प्रदर्शन में महेंद्र ¨सह, गुलाम नबी काजी, रमेश सरमाल, अशोक कुमार, देवेंद्र ¨सह, सूरज प्रकाश आदि ने भाग लिया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.