Coronavirus in Jammu Kashmir: सांबा कंटेनमेंट जोन में बिना मॉस्क घूम रहे लोगों को देख केंद्र से आई टीम हुई नाराज

टीम के सदस्यों ने कहा कि कोरोना से बचाव का एक ही तरीका है कि सभी एसओपवी का पालन करें।

टीम ने कुछ कंटेनमेंट जोन और जिला अस्पताल सांबा का दौरा किया। उनके साथ स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी भी मौजूद थे। टीम ने अपने दोरे के दौरान पाया कि कंटेनमेंट जोन में भी कुछ लोग बिना मास्क के घर से बाहर आए थे।

Rahul SharmaTue, 18 May 2021 10:25 AM (IST)

जम्मू, राज्य ब्यूरो: केंद्र से आई स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की तीन सदस्यीय टीम जम्मू और सांबा जिलों में सुबह के समय और कंटेनमेंट जोन मेंकुछ लोगों द्वारा मास्क न पहनने और एसओपी का पालन न करने पर नाखुश दिखे। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग को इस पर लोगों को जागरूक करना चाहिए तथा एक ही समय सभी दुकानें खोलकर भीड़ जुटाने के स्थान पर अलग-अलग समयम पर दुकानें खुलवानी चाहिए।

टीम ने उन सभी मरीजों को कोविड केयर सेंटरों में रखने को कहा जिनके घरों में सुविधा नहीं है। टीम में ज्वाइंट डायरेक्टर एपीडेमालोजी डा. प्रणय वर्मा, डा. महेश वाघमरे और पीजीआई चंडीगढ़ से डा. नवनीत शर्मा शामिल हैं। टीम सोमवार की सुबह सांबा जिले का दौरा करने पहुंची।

टीम ने कुछ कंटेनमेंट जोन और जिला अस्पताल सांबा का दौरा किया। उनके साथ स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी भी मौजूद थे। टीम ने अपने दोरे के दौरान पाया कि कंटेनमेंट जोन में भी कुछ लोग बिना मास्क के घर से बाहर आए थे। सुबह जब दस बजे तक दुकानों खुली हुई थी तो लोग भीड़ जुटाए हुए थे। कइयों ने मास्क नहीं पहने थे ओर शारीरिक दूरी भी नहीं बनाई हुई थी। इससे टीम के सदस्य नाखुश थे। उनका कहना था कि इस प्रकार से कोरोना पर रोक नहीं लगाई जा सकती है।

यहां पर पहले से ही यूके वेरिएट, बी 1.617 (इंडियन डबल म्यूटेशन) के लगातार मामले दर्ज हो रहे हैं। इस प्रकार की लापरवाही भारी पड़ सकती है। उन्होंने माइक्रो कंटेनमेंट जोन बढ़ाने को कहा। उनका कहना था कि जिस घर में कोई संक्रमित आता है, उसके आसपास के दो-दो घरों को इस कंटेनमेंट जोन में शामिल कर सभी की टेस्टिंग हो। उन्होंने घरों में मर रहे मरीजों का कारण भी पूछा।

उन्हें बताया गया कि कई मरीज अस्पतालों में इलाज के लिए नहीं आ रहे हें जबकि कई देरी से पहुंख् रहे हें। मरीजों को लग रहा है कि वे खुद ही इलाज कर लेंगे। इस पर उन्होंने सलाह दी कि जिन मरीजों के पास आइसोलेट होने के लिए जगह नहीं है, उन्हें कोविड केयर सेंटरों में लाया जाए और सभी सुविधाएं दी जाएं। टीम के सदस्यों ने कहा कि कोरोना से बचाव का एक ही तरीका है कि सभी एसओपवी का पालन करें।

मास्क पहनें और शारीरिक दूरी को बनाए रखें। इसी से चेन को तोड़ा जा सकता है। टीम ने स्वास्थ्य निदेशक जम्मू डा1 रेनू शर्मा और जम्मू के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी डा. जेपी सिंह के साथ भी बैठक कर स्थिति का जायजा लिया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.