Jammu Srinagar Highway: BRO ने दी सलाह- 40 टन से अधिक भार वाले वाहनों को न गुजरने दें बेली पुल से, हो सकता है खतरा

ट्रक चालकों को हाईवे खुलने से काफी राहत मिली है।

ब्रिगेडियर आइके जग्गी ने बताया कि पुल के निर्माण के लिए 72 घंटे का समय मांगा था परंतु मात्र 60 घंटों में ही इस पुल का निर्माण कर दिया। इसी के साथ उन्होंने यह भी बताया कि इस पुल की भार सहने की क्षमता 40 टन के करीब है।

Publish Date:Sun, 17 Jan 2021 10:01 AM (IST) Author: Rahul Sharma

जम्मू, जेएनएन। जिला रामबन में केली मोड़ पुल की सुरक्षा दिवार गिरने के बाद पिछले एक सप्ताह से बंद पड़े जम्मू-श्रीनगर हाईवे को आज खोल दिख गया है। बीआरओ द्वारा हाईवे पर बनाए गए अस्थायी बेली पुल का गत शनिवार को सफल ट्रायल होने पर इसे वाहनों की आवाजाही के लिए शुरू कर दिया गया है। मात्र 60 घंटों में तैयार किए गए इस पुल की मदद से हाईवे पर कई दिनों से फंसे हुए वाहनों को निकाला जा रहा है। वहीं पुल का निर्माण करने वाली बीआरओ ने ट्रैफिक विभाग को यह चेतावनी भी दी है कि पुल पर से 40 टन से अधिक भार वाले वाहनों को गुजरने की इजाजत न दें, अन्यथा यह खतरनाक साबित हो सकता है।

ब्रिगेडियर आइके जग्गी ने बताया कि पुल के निर्माण के लिए उन्होंने 72 घंटे का समय मांगा था परंतु उनकी टीम ने मात्र 60 घंटों में ही इस पुल का निर्माण कर दिया। इसी के साथ उन्होंने यह भी बताया कि इस पुल की भार सहने की क्षमता 40 टन के करीब है। यदि पुल से इससे अधिक भार वाले वाहनों को गुजारने की इजाजत दी गई तो यह खतरनाक साबित हो सकता है। उन्होंने ट्रैफिक विभाग व जिला प्रशासन से कहा कि वह इस बात का विशेष ध्यान रखें कि इससे अधिक भार वाले वाहनों को पुल से न गुजरने दिया जाए।

वहीं करीब एक सप्ताह बाद आज सुबह हाईवे पर फंसे वाहनों को जैसे ही हाईवे पर उतरने की इजाजत दी गई तो चालकों के चहरे पर खुशी की लहर थी। ट्रैफिक विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि शनिवार को ट्रायल होने के बाद भी कुछ वाहनों को छोड़ा गया था परंतु आज रविवार को हाईवे पर फंसे हुए वाहनों को नियमित तौर पर छोड़ा जा रहा है। फिलहाल वाहनों की आवाजाही एक तरफा ही रहेगी। सिंगल पुल होने की वजह से कुछ घंटों के लिए ट्रैफिक जम्मू से श्रीनगर व श्रीनगर से जम्मू की ओर छोड़ी जा रही है। राहत की बात यह है कि इस कपकपाती सर्दी में हाईवे पर अपने वाहनों में ही रहने को मजबूर ट्रक चालकों को हाईवे खुलने से काफी राहत मिली है। 

ट्रैफिक विभाग के अनुसार अभी हाईवे पर फंसे वाहनों को निकाला जा रहा है। जब हाईवे पर वाहनों की आवाजाही सामान्य हो जाएगी उसके बाद ही अन्य वाहनों को उतरने की इजाजत दी जाएगी। वहीं उन्होंने यह भी बताया कि एनएचएआई द्वारा बनाए जा रहे केली मोड़ पुल का निर्माण कार्य भी जोरों पर है। पुल के बनते ही हाईवे पर वाहनों की आवाजाही सामान्य हाे जाएगी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.