कश्मीर में Terror Funding की जांच कर रही NIA का एक अधिकारी संदेह के घेरे में, हिमाचल प्रदेश का है रहने वाला

यह अधिकारी उस टीम का सदस्य था जिसने 28 अक्टूबर 2020 को खुर्रम परवेज के घर में तलाशी ली थी। वह कश्मीर में टेरर फंडिंग के संदर्भ में जारी जांच में भी शामिल था।एनआइए ने उससे से पूछताछ शुरु करने के अलावा उसके घर की भी तलाशी ली है।

Vikas AbrolSat, 27 Nov 2021 02:02 PM (IST)
एनआइए ने उससे से पूछताछ शुरु करने के अलावा हिमाचल प्रदेश में स्थित उसके घर की भी तलाशी ली है।

श्रीनगर, राज्य ब्यूरो। कश्मीर में टेरर फंडिंग और आतंकी गतिविधियों की जांच कर रही राष्ट्रीय जांच एजेंसी एनआइए का एक अधिकारी भी अब संदेह के घेरे में आ गया है। एसपी रैंक के इस अधिकारी से भी एनआइए ने पूछताछ शुरु कर दी है। इस बीच, संबंधित प्रशासन ने खुर्रम परवेज को सीआइडी विभाग की नकारात्मक रिपोर्ट के बावजूद पासपोर्ट जारी करने के मामले की जांच के भी आदेश जारी कर दिए हैं।

उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि संदेह के घेरे में आया यह अधिकारी कुछ समय पहले तक जम्मू कश्मीर में ही तैनात था। फिलहाल, वह दिल्ली स्थित एनआइए मुख्यालय में तैनात है और मूलत: हिमाचल प्रदेश का रहने वाला है। वह गत दिनों आतंकी और राष्ट्रद्राेह से संबंधित मामलों में गिरफ्तार किए गए तथाकथित मानवाधिकारवादी खुर्रम परवेज और लश्कर-ए-तैयबा के एक ओवरग्राउंड वर्कर मुनीर चौधरी के साथ लगातार संपर्क में था।

यह अधिकारी उस टीम का सदस्य था, जिसने 28 अक्टूबर 2020 को खुर्रम परवेज के घर में तलाशी ली थी। वह कश्मीर में टेरर फंडिंग के संदर्भ में जारी जांच में भी शामिल था। इसके अलावा वह आतंकी-राजनीतिक-पुलिस गठजोड़ मामले में शामिल वाहिद परा और नौकरी से निकाले जा चुके पुलिस डीएसपी देवेंद्र सिंह के मामले की जांच से भी जुड़ा हुआ था।

सूत्रों ने बताया कि संदेह के घेरे में आए अधिकारी ने तथाकथित तौर पर कई अहम जानकारियां खुर्रम परवेज और मुनीर चौधरी तक पहुंचाई हैं। एनआइए ने उससे से पूछताछ शुरु करने के अलावा हिमाचल प्रदेश में स्थित उसके घर की भी तलाशी ली है। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.