Jammu Kashmir : जेयू में आफलाइन गतिविधियां बंद, कश्मीर में कोरोना नियंत्रण के लिए डिवीजन स्तर पर कमेटी गठित

जम्मू यूनिवर्सिटी में आफलाइन चलने वाली सारी गतिविधियां बंद कर दी गई।

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के कारण जम्मू यूनिवर्सिटी में आफलाइन चलने वाली सारी गतिविधियां बंद कर दी गई। वहीं दूसरी तरफ स्वास्थ्य निदेशक कश्मीर ने कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए डिवीजनल स्तर की टीम गठित की है।

Lokesh Chandra MishraSun, 11 Apr 2021 07:37 PM (IST)

जम्मू, राज्य ब्यूरो : कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के कारण जम्मू यूनिवर्सिटी में आफलाइन चलने वाली सारी गतिविधियां बंद कर दी गई। जम्मू विश्वविद्यालय को माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित किए जाने के बाद विश्वविद्यालय प्रबंधन ने आफ लाइन टीचिंग, रिसर्च वर्क, विवि कैंपस में कार्यालय को अगले आदेश तक बंद रखने का फैसला किया है। वहीं दूसरी तरफ स्वास्थ्य निदेशक कश्मीर ने कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए डिवीजनल स्तर की टीम गठित की है। इसमें दक्षिण, उत्तर और मध्य कश्मीर के अधिकारियों को शामिल किया है। यह टीम स्वास्थ्य निदेशक को हर दिन कोरोना संक्रमण की स्थिति और उससे निपटने के लिए उठाए जाने वाले कदमों के बारे में जानकारी देगी।

जम्मू विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार अरविंद जसरोटिया की तरफ से जारी आदेश के अनुसार आधिकारिक कामकाज भी आनलाइन ही चलेगा। हॉस्टलों में रहने वाले विद्यार्थियों को तय नियमों के अनुसार हॉस्टल खाली करने होंगे। विश्वविद्यालय में सेंट्रल लाइब्रेरी, आडिटोरियम, गेस्ट हाउस भी बंद रहेंगे। पीएचडी और एमफिल के साक्षात्कार भी आनलाइन होंगे। विश्वविद्यालय की सभी परीक्षाएं पंद्रह अप्रैल तक स्थगित कर दी गई है।

विश्वविद्यालय का हेल्थ सेंटर विवि कैंपस में सैनिटाइज करवाएंगा। अगर कोई आपात स्थिति पैदा होती है तो विवि में डा. भारत भूषण, डा. शबाना आजमी, मुख्य सुरक्षा अधिकारी से संपर्क किया जा सकता है। विवि प्रबंधन से अनुमति लिए बिना कोई भी कर्मचारी बाहर नहीं जा सकता है। विवि का हेल्थ सेंटर, सेनीटेशन, आरबोरीकल्चरल विभाग जरूरत के अनुसार काम करते रहेंगे।

एयरपोर्ट से आने वाले संदिग्धों के लिए कोविड केयर सेंटर बनाने को मंजूरी

वहीं दूसरी तरफ कश्मीर में कोरोना नियंत्रण के लिए डिवीजनल स्तर पर बनाई गई टीम कोविड देखभाल सेवाओं की निगरानी करेंगी। टीम पूरे कश्मीर संभाग में सुविधाओं का निरीक्षण भी करेगी। स्वास्थ्य निदेशक डा. मुश्ताक राथर ने सीएचसी छनपोरा को एयरपोर्ट से आने वाले संदिग्धों के लिए कोविड केयर सेंटर बनाने को मंजूरी दी है। वहीं कोविड गर्भवती महिलाओं के लिए अब सीएचसी छनपोरा के स्थान पर जेएलएनएम अस्पताल में होगी।

श्रीनगर, बडगाम और आसपास के क्षेत्र की गर्भवती महिलाएं इस अस्पताल में भर्ती होंगी। उन्होंने श्रीनगर के सीएमओ को निर्देश दिए कि वह जच्च-बच्चा सेंटर सनतनगर को पूरी तरह से तय समय पर याुरू करें। उन्होंने कोविड केयर सेंटर का दौरा कर वहां पर सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने पूरे कश्मीर संभाग में आक्सीजन मैनिफोल्ड सुविधाओं के बारे में भी जानकारी ली।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.