तंबाकू का सेवन कोरोना मरीजों के लिए घातक

तंबाकू का सेवन करने वाले व्यक्तियों के लिए कोरोना अधिक घातक है औ

JagranSun, 30 May 2021 07:41 PM (IST)
तंबाकू का सेवन कोरोना मरीजों के लिए घातक

यादवेन्द्र शर्मा, शिमला

तंबाकू का सेवन करने वाले व्यक्तियों के लिए कोरोना अधिक घातक है और मौत की और धकेल रहा है। तंबाकू और कोरोना दोनों फेफड़ों को प्रभावित करते हैं, जो कोविड निमोनिया और मौत का मुख्य कारण बन रहा है। प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग कोरोना संक्रमण के दौरान तंबाकू का इस्तेमाल न करने के लिए जागरूक कर रहा है, ताकि कोरोना से होने वाली मौतों को कम किया जा सके।

तंबाकू का सेवन करना धीमी आत्महत्या है। लगातार तंबाकू का सेवन आयु को कम करता है और व्यक्ति की आयु 10 से 15 वर्ष कम हो जाती है। देवभूमि हिमाचल में युवाओं में बढ़ती तंबाकू की लत ने 50 से 70 वर्ष की आयु में होने वाले कैंसर को 25 वर्ष की आयु तक पहुंचा दिया है।

--------

हर वर्ष 220 करोड़ रुपये के तंबाकू उत्पादों का सेवन

हर वर्ष हिमाचली 220 करोड़ रुपये के तंबाकू उत्पाद जैसे बीड़ी, सिगरेट, खैनी पान मसाला का इस्तेमाल कर रहे हैं। प्रदेश में कैंसर के कुल मामलों में से लंग कैंसर के ही 11 हजार रोगी हैं। प्रदेश में हर वर्ष 2800 नए कैंसर के मरीज शामिल हो रहे हैं। इनमें 60 फीसद तंबाकू और धूमपान के कारण होने वाले फेफड़ों व मुंह के कैंसर के रोगी हैं। मुंह के कैंसर के करीब चार फीसद मामले आते थे और अब इनकी संख्या 15 फीसद तक हो गई है। टीबी से मृत्यु के लगभग 38 फीसद मामले तंबाकू से जुड़े हैं।

-------

चार विभाग तंबाकू छुड़वाने के लिए कर रहे प्रयास

तंबाकू की लत छुड़वाने के लिए चार विभाग महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। इनमें स्वास्थ्य विभाग का हृदय रोग विभाग, चेस्ट एंड टीबी, मनोरोग और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग शामिल है। पुलिस और स्वयं सहायता समूह भी इस दिशा में कार्य कर रहे हैं।

------

तीन तरीके से छोड़ी जा सकती है तंबाकू की लत

-काउंसिलिंग, जिसमें मनारोग विभाग मनोउपचार प्रदान कर रहा है।

-तंबाकू के उपयोग के आधार पर दवाओं का इस्तेमाल।

-चिकित्सक की सलाह से निकोटीन की च्वींगम और टाफी दी जाती है

------

लंग कैंसर के लक्षण

-सांस लेने में तकलीफ, लगातार खांसी, सीने में दर्द, खांसते वक्त खून आना।

-गले में खराश, कैंसर होने पर खाना निगलने में परेशानी।

------

तंबाकू का सेवन कोविड संक्रमित के लिए ज्यादा घातक है। तंबाकू के सेवन के कारण फेफड़ों के कैंसर जैसी बीमारियां हो रही हैं। कोटपा के लागू होने से कुछ असर हुआ है। तंबाकू की लत छुड़वाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। लोगों को जागरूक किया जा रहा है।

-डा. मलाया सरकार, विभागाध्यक्ष चेस्ट एंड टीबी रोग विभाग आइजीएमसी शिमला।

------

कोरोना मरीज कितने ऐसे रहे हैं, जो तंबाकू का सेवन करते थे इस संबंध में डाटा तैयार नहीं किया गया है। कोरोना तंबाकू का सेवन करने वालों के लिए ज्यादा घातक है यह बात बिल्कुल सही है।

-डा. निपुण जिंदल, मिशन निदेशक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन हिमाचल प्रदेश।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.