आइजीएमसी में मरीजों को मिलेगी 24 घंटे टेस्टिंग की सुविधा

प्रदेश के सबसे बड़े स्वास्थ्य संस्थान इंदिरा गांधी मेडिकल कालेज व अस्पत

JagranSun, 30 May 2021 07:05 PM (IST)
आइजीएमसी में मरीजों को मिलेगी 24 घंटे टेस्टिंग की सुविधा

जागरण संवाददाता, शिमला : प्रदेश के सबसे बड़े स्वास्थ्य संस्थान इंदिरा गांधी मेडिकल कालेज व अस्पताल (आइजीएमसी) शिमला में अब मरीजों को 24 घंटे टेस्टिंग की सुविधा मिलेगी। वहीं महज एक से डेढ़ घंटे के भीतर विभिन्न टेस्ट की रिपोर्ट भी मिल जाएगी। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने रविवार को अस्पताल में इमरजेंसी लैब का लोकार्पण किया। वहीं अस्पताल परिसर में बने लिक्विड आक्सीजन प्लांट भी शुरू किया।

अब अस्पताल के विभिन्न वार्डो में आक्सीजन की जरूरत वाले मरीजों को बेड पर आक्सीजन उपलब्ध करवाई जाएगी। साथ ही इस प्लांट के जरिये एक दिन में करीब 1600 बडे़ सिलेंडर भरे जा सकेंगे, जहां मौजूदा समय में करीब 500 सिलेंडर भरे जाते थे। इससे कोरोना के मरीजों व विभिन्न वार्डो में दाखिल मरीजों को बड़ी राहत मिलेगी। वहीं, प्रदेश के एकमात्र मातृ एवं शिशु अस्पताल कमला नेहरू (केएनएच) में मुख्यमंत्री ने फोर डी अल्ट्रासाउंड मशीन, डिजिटल एक्सरे और आक्सीजन प्लांट का शुभारंभ किया। अभी तक अस्पताल को आइजीएमसी से आक्सीजन मंगवानी पड़ती थी।

------

स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर करने के लिए किए प्रयास : मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इसके बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि आइजीएमसी और केएनएच में अत्याधुनिक तकनीक वाली स्वास्थ्य सुविधाएं शुरू की गई हैं। उन्होंने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि अस्पतालों में बेहतर सुविधाओं की आशा में पहुंचने वाले मरीजों को खासी राहत मिलेगी। आइजीएमसी में टेस्ट के बाद रिपोर्ट आने में काफी वक्त लगता था, इससे मरीजों का इलाज शुरू होने में काफी वक्त बर्बाद होता था। साथ ही लिक्विड आक्सीजन प्लांट शुरू होने से अब आक्सीजन संबंधी कोई कठिनाई नहीं आएगी। आइजीएमसी में मरीजों के इलाज के लिए 2200 सिलेंडर की उपलब्धता भी है। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए भरसक प्रयास किए गए हैं।

------

लैब में होंगे ये टेस्ट

लैब में आरएफटी, एलएफटी, लिपिड, इलेक्ट्रोलाइट्स, एडीए, हेमेटोलॉजी, एचबी, सीबीसी, सीएसएफ, हेमोस्टेसिस पैरामीटर (पीटी/आइएनआर) के साथ इलेक्ट्रोलाइट्स, रक्त गैस विश्लेषण सहित अन्य टेस्ट होंगे। इसके अलावा सीआरपी, फेरिटिन, डी डाइमर सहित महत्वपूर्ण टेस्ट भी लैब में हो सकेंगे। इस लैब की स्थापना के बाद अब आइजीएमसी में लिथियम परीक्षण की भी सुविधा मिलेगी। लैब में जो जांच मशीन स्थापित की गई है वह अपनी तरह की प्रदेश में पहली मशीन है। यह मशीन एक साथ एक घंटे की अवधि में करीब एक हजार चालीस सैंपल की जांच करने में सक्षम है। वहीं जांच की रिपोर्ट महज कुछ देर में मिलने से गंभीर मरीजों के इलाज में तेजी आएगी। केएनएच में फोर डी अल्ट्रासाउंड, डिजिटल एक्सरे का शुभारंभ

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.