हिमाचल में बढ़ा साइबर अपराध

हिमाचल प्रदेश में साइबर अपराध के मामलों में बड़ा उछाल आया है।

JagranThu, 02 Dec 2021 11:45 PM (IST)
हिमाचल में बढ़ा साइबर अपराध

रमेश सिंगटा, शिमला

हिमाचल प्रदेश में साइबर अपराध के मामलों में बड़ा उछाल आया है। ठगों ने संगठित अपराध का बड़ा जाल बिछाया है। सीआइडी का साइबर थाना (अब साइबर क्राइम रीजनल कोआर्डिनेशन सेंटर) ठगी के शिकार व्यक्तियों को राहत पहुंचा रहा है लेकिन ठगों को पकड़ना मुश्किल होता जा रहा है। इस साल 33 लाख 26 हजार रुपये रिफंड करवाए गए है। अभी 14 लाख रुपये और रिफंड होंगे।

सीआइडी ने जागरूकता को ही ऐसे अपराध रोकने का बड़ा व सबसे कारगर हथियार बनाया है। लोगों को जागरूक किया जा रहा है। साइबर थाने के पास इस साल 11 महीनों में 4818 शिकायतें आई हैं। दावा है कि इनमें से अधिकांश शिकायतों का निपटारा कर दिया है। केवल पांच एफआइआर दर्ज की गई थीं। इनकी जांच विज्ञानी तरीके से आगे बढ़ाई गई। कितने मामले आए सामने

वर्ष,वित्तीय धोखाधड़ी के मामले,रिफंड

2017,419,324807 रुपये

2018, 523,959186

2019,766,1891298

2020,1198,2184693

2021,1493,3028847

(वर्ष 2021 के आंकड़े नौ महीने के हैं) साइबर अपराध की शिकायतें

वर्ष,शिकायतें

2016,519

2017,570

2018,981

2019,1638

2020,3843

2021,4818 पैसा हुआ रिफंड

इन घटनाओं में जिन व्यक्तियों का दोष नहीं पाया गया और अपराध होने के 24 घंटे के अंदर शिकायत की गई, उन्हें ठगी का पैसा वापस मिल गया है। सीआइडी ने इस पैसे को शिकायतकर्ता को वापस दिलाया। एडवायजरी जारी

सीआइडी के साइबर सेल ने फिर एडवायजरी जारी की है। लोगों को ठगों से सावधान रहने को कहा गया है। साइबर पुलिस ने इंटरनेट मीडिया पर सुरक्षित रहने के लिए कई सुझाव दिए हैं।

-मजबूत पासवर्ड का उपयोग करें। पासवर्ड जितना लंबा होगा, उतना ही सुरक्षित होगा।

-अपने प्रत्येक इंटरनेट मीडिया अकाउंट के लिए एक अलग पासवर्ड का उपयोग करें।

-दोस्तों का चयन सावधानीपूर्वक करें। यदि आप किसी व्यक्ति को नहीं जानते हैं तो उसके अनुरोध को स्वीकार न करें। यह एक फर्जी खाता हो सकता है।

-लिंक पर सावधानी के साथ क्लिक करें।

-जो जानकारी आप शेयर करते हैं, उसके संबंध में सावधान रहें। संवेदनशील या व्यक्तिगत जानकारी शेयर न करें।

-सुरक्षा के लिए एंटीवायरस साफ्टवेयर इस्तेमाल कर अपने कंप्यूटर को सुरक्षित रखें। आपका ब्राउजर, आपरेटिग सिस्टम व साफ्टवेयर अपडेट रहे। जब आप कंप्यूटर पर कार्य पूरा कर लेते हैं तो लागआउट करें।

-अगर कोई ठगी का शिकार हो जाता है तो साइबर क्राइम रीजनल कोआर्डिनेशन सेंटर को जानकारी दें।

सीआइडी का साइबर थाना लोगों को जागरूक कर रहा है। ठग नित नए हथकंडे, अपना रहे हैं। साइबर ठगों से सावधान रहना होगा। इसके लिए लगातार जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। अगर कोई ठगी का शिकार हो जाए तो इसकी साइबर पुलिस से शिकायत करें। साइबर ठग महानगरों से नेटवर्क संचालित करते हैं, इसलिए उन्हें पकड़ना आसान नहीं होता है। इसके बावजूद कई पेचीदा केस सुलझाने में कामयाबी मिली है।

-नरवीर राठौर, एएसपी, साइबर क्राइम

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.