कुल्लू के 57 भवन अवैध, मालिकों को भेजे नोटिस

द¨वद्र ठाकुर, कुल्लू

जिला कुल्लू के बबेली से लेकर रामशीला तक करीब 57 अवैध कब्जाधारियों पर अब गाज गिरना लगभग तय है। इसके लिए लोक निर्माण विभाग ने रूपरेखा तैयार कर ली है। पहले चरण में विभाग ने 57 अवैध कब्जा करने वालों को नोटिस भेजकर मकान व दुकाने खाली करने के निर्देश जारी कर दिए हैं। साथ ही विभाग ने नोटिस में यह भी कहा कि स्वयं अवैध कब्जों को हटा लें अन्यथा विभाग अपने स्तर पर अवैध कब्जों को हटाएगा। इसके लिए जो भी खर्च होगा वह भी अवैध कब्जा किए गए मालिकों से वसूल किया जाएगा। सनद रहे कि कुछ समय पूर्व एसडीएम के नेतृत्व में बबेली से रामशीला तक अवैध कब्जाधारियों को चिह्नित किया था इसमें राजस्व विभाग ने कुल्लू व बंजार लोक निर्माण विभाग के अंतर्गत आने वाले भुंतर से रामशीला तक करीब 250 से अधिक होटल, मकान, दुकानों की निशानदेही की थी। जिसमें से 182 अवैध कब्जाधारी पाए गए थे। इसके बाद एसडीएम कुल्लू डॉ. अमित गुलेरिया ने इन अवैध कब्जाधारियों की सूची लोक निर्माण विभाग को भेज दी है, लेकिन लोक निर्माण विभाग अभी तक इस पर काई भी उचित कार्रवाई नहीं कर पाया है। मंगलवार को लोक निर्माण विभाग कुल्लू ने पहल करते हुए 57 अतिक्रमणकारियों को नोटिस भेज दिए हैं। नोटिस भेजने के बाद लोक निर्माण विभाग इन अतिक्रमणकारियों को हटाने का कार्य आरंभ कर देगा।

---------------

कार्रवाई करने में देरी

बबेली मंदिर से लेकर रामशीला तक 57 अवैध कब्जाधारियों की सूची को मिले दो सप्ताह से अधिक समय हो गया है लेकिन अभी तक इन पर कार्रवाई नहीं हो पाई। लोगों ने भी इस पर हैरत जताई है कि आखिर लोक निर्माण विभाग इतनी लेटलतीफी क्यों बरत रहा है। कुल्लू डिविजन के तहत लगातार कई मामले अभी तक लंबित पड़े हुए हैं।

-------------

कुल्लू डिविजन के अंतर्गत 57 अवैध कब्जाधरियों की सूची आई है। राजस्व विभाग ने पूरा पता नहीं दिया था जिस कारण लेटलतीफी हुई है। सोमवार को राजस्व विभाग से इन अतिक्रमणकारियों का पूरा पता मांगा गया है। मंगलवार को 57 अवैध कब्जाधारियों को नोटिस भेज दिए हैं। जल्द ही इस पर आगामी कार्रवाई की जाएगी।

-- विनय हाजरी, एसडीओ, लोक निर्माण विभाग कुल्लू ।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.