व‍िधानसभा का शीतकालीन सत्र शुरू, प्रश्‍नकाल शुरू होते ही व‍िपक्ष ने क‍िया वॉकआउट

जेएनएन, धर्मशाला। तपोवन में सोमवार दोपहर दो बजे से व‍िधानसभा का शीतकालीन सत्र शुरू हो गया। प्रश्‍नकाल से पहले ही व‍िपक्ष आक्रमक तेवरों में नजर आया। व‍िपक्ष ने सदन की कार्यवाही शुरू होते ही सरकार को व‍िपक्ष को धमकाने और कानून व्‍यवस्‍था के मुददे पर घेरना शुरू कर द‍िया। हालांक‍ि इस बीच प्रश्‍नकाल शुरू हो गया। इसमें सबसे पहले भाजपा व‍िधायक ब‍िक्रम जरयाल ने सरकार से पूर्व सैन‍िकों और उनके आश्र‍ितों को रोजगार के संबंध में प्रश्‍न क‍िया। लेकिन व‍िपक्ष के व‍िधायक सीटों से उठ गए तथा करीब 15 म‍िनट बाद उन्‍होंने सदन से वॉकआउट कर दिया। व‍िपक्ष के सभी व‍िधायक गेट नंबर एक में बैठ गए तथा सरकार के ख‍िलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। प्रश्‍नकाल तीन बजे तक चला।

प्रश्नकाल में बंदरों को वर्मिन घोषित करने, फॉरेस्ट फॉर प्रोस्पेरेटी प्रोजेक्ट, कौल बांध के विस्थापित और गुलेर आर्ट कला एवं हरिपुर को धरोहर गांव घोषित करने की गूंज भी रही। सत्र में प्रश्नकाल के दौरान मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री के फॉरेस्ट फॉर प्रोस्पेरेटी प्रोजेक्ट का जवाब देंगे।

जंगलों को आगजनी की घटनाओं से बचाने के लिए सरकार द्वारा शुरू किए गए फॉरेस्ट फॉर प्रोस्पेरेटी प्रोजेक्ट रद करने का निर्णय लिया गया है, प्रोजेक्ट के तहत सरकार को वल्र्ड बैंक से शुरुआती राशि भी प्राप्त हुई थी, फिर क्यों सरकार प्रोजेक्ट को हटा रही है, सरकार को सदन में स्पष्ट करना होगा।  इसके अलावा किन्नौर के विधायक जगत ङ्क्षसह नेगी, वन मंत्री गोङ्क्षवद ठाकुर से पूछेंगे कि किन जिलों में कितने समय के लिए बंदरों को वर्मिन घोषित किया गया है। वर्मिन घोषित करने के बाद 15 नवंबर 2018 तक किस मंडल और किस जिले में कितने बंदर मारे गए हैं।

एनटीपीसी कौल बांध परियोजना जनहित से जुड़ा मसला है। परियोजना के तहत से बिलासपुर, मंडी व सोलन के कितने परिवार विस्थापित हुए हैं, कितने परिवारों को रोजगार दिया गया है, प्रोजेक्ट में विस्थापित व गैर विस्थापित लोग कार्य कर रहे हैं। इसके अलावा पांच साल में विस्थापितों को किस दर से राशि आंवटित की गई है, पर भी चर्चा होगी।

हेली टैक्सी को लेकर विधायक सुखव‍िंदर स‍िंह सुक्‍खू सदन में शिमला-चंडीगढ़ हेली टैक्सी कब शुरू हुई, कितना किराया और अन्य जिलों में हेली टैक्सी सेवा शुरू करने पर सरकार का क्या प्लान है, का भी ब्योरा मांगेंगे। प्रदेश की गुलेर आर्ट विश्वभर में प्रसिद्ध है। गुलेर आर्ट कला के प्रसिद्ध चित्रकार नयन सुख द्वारा बनाए गए चित्र जो विभिन्न संग्रहालय में रखे गए हैं और जिनकी कीमत इस समय करोड़ों में हैं वापस लाने और हरिपुर विकास बोर्ड और हरिपुर के घरोधर गांव बनाने को लेकर सरकार को क्या विचार है, देहरा के विधायक होशियार ङ्क्षसह जानने का प्रयास करेंगे।

इससे पहले हिमाचल प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष डॉ राजीव बिन्दल ने तपोवन स्थित अपने विधानसभा कार्यालय में संसदीय कार्यमन्त्री हिमाचल प्रदेश सुरेश भारद्वाज तथा नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री के साथ बैठक की।

विधानसभा की आज की कार्यवाही
-विधानसभा सचिव हिमाचल प्रदेश लोक सेवा आयोग (अतिरिक्त कृत्य) अधिनियम 2018 (2018 का अधिनियम संख्याक-9) की प्रति सभी पटल पर रखेंगे।

अध्यादेश
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर हिमाचल प्रदेश माल व सेवा कर (संशोधन) अध्यादेश, 2018 (2018 का अध्यादेश संख्याक-1) की प्रति उन परिस्थितियों के स्पष्टीकरण के कथन सहित जिनके कारण उक्त अध्यादेश का प्रख्यापन आवश्यक हुआ है, सभा पटल पर रखेंगे।

-प्रतिवेदन
कल्याण समिति सभापति सुखराम (वर्ष 2018-19) समाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग से संबंधित महिला विकास प्रोत्साहन योजना और बलवीर स‍िंह प्राथमिक व उच्चतर शिक्षा के संबंध प्रतिवदेन प्रस्तुत करेंगे।

ध्यानाकर्षण प्रस्ताव
विधायक राकेश जम्वाल नियम-62 के तहत फोरलेन की स्थिति को लेकर सदन में ध्यानाकर्षण प्रस्ताव लाएंगे।

-नियम 130 के तहत प्रस्ताव
विधायक राकेश पठानिया व रमेश चंद धवाला प्रदेश के जलवायु परिर्वतन से होने वाले दुष्प्रभावों के कारण भू-गर्भ एवं स‍िंचाई योजनाओं के घटते जलस्तर से उत्पन्न स्थित पर सदन में विचार रखेंगे।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.