कोलतार प्लांट के विरोध में उतरे ग्रामीण

कोलतार प्लांट के विरोध में उतरे ग्रामीण

संवाद सूत्र डाडासीबा जसवां परागपुर विधानसभा क्षेत्र की पंचायत बणी के अंतर्गत गांव डागंडा नक्क

JagranFri, 05 Mar 2021 02:09 AM (IST)

संवाद सूत्र, डाडासीबा : जसवां परागपुर विधानसभा क्षेत्र की पंचायत बणी के अंतर्गत गांव डागंडा नक्की खड्ड में स्थानीय लोगों की सहमति के बिना लगाए जा रहे कोलतार प्लांट के विरोध में क्षेत्र की पंचायतें बणी परागपुर, अप्पर परागपुर, बलियाणा व मूहीं के ग्रामीण उतर आए हैं।

वीरवार को डागंड़ा गांव के दर्जनों ग्रामीणों ने ब्लॉक खंड अधिकारी परागपुर के माध्यम से उपायुक्त कांगड़ा, पंचायतीराज मंत्री व राज्यपाल को ज्ञापन भेजते हुए प्लांट न लगाने को मांग की है।

परागपुर के निकटवर्ती पंचायत बणी के तहत राजस्व गांव डांगड़ा के अंतर्गत मलकीयती खड्ड पर कोलतार प्लांट लगाया जा रहा था। नक्की के लोगों सहित साथ लगती जमीन के मालिकों ने अपना विरोध दर्ज करवाने के लिए इससे पहले भी एसडीएम देहरा को एक ज्ञापन सौंपा था। वहीं नक्की निवासियों ने सीएम हेल्पलाइन में भी इस बावत शिकायत दर्ज करवाई थी, जिस पर वरिष्ठ पर्यावरण अभियंता डा. आरके नड्डा ने संज्ञान लेते हुए कोलतार प्लांट लगाने वाले व्यक्ति को 18 फरवरी 2021 को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए जवाब तलब किया था। इसके साथ ही उन्होंने चेताया था कि कोलतार प्लांट लगाने वाले व्यक्ति ने प्रदूषण नियंत्रण कंट्रोल बोर्ड के नियम अनुसार कार्य नही किया तो बोर्ड की ओर से कार्रवाई की जाएगी।

वहीं साथ लगती चारों पंचायतों ने प्लांट के विरोध में प्रस्ताव पारित किए हैं, उसमें लिखा है, कि जो कोलतार का प्लांट लगाया जा रहा है वो राजकीय अस्पताल परागपुर के समीप है और 33 केवी सबस्टेशन, जल शक्ति विभाग का मंडल कार्यालय, गैस एजेंसी, विद्युत परिषद का कार्यालय और विकास खंड परागपुर का कार्यालय भी कुछ ही दूरी पर स्थित हैं। घनी आबादी भी साथ है और उक्त पंचायतों के लोगों को यह प्लांट सबसे अधिक प्रभावित करेगा।

उधर, वरिष्ठ पर्यावरण अभियंता डा. आरके नड्डा ने बताया कि सीएम हेल्पलाइन के माध्यम से उन्हें बणी की नक्की खड्ड में लगाए जा रहे कोलतार प्लांट के संबंध में शिकायत मिली है। बोर्ड ने नियम अनुसार कार्रवाई करते हुए प्लांट लगाने वाले व्यक्ति को नोटिस भी जारी कर दिया है। वहीं एसडीएम देहरा धनवीर ठाकुर ने कहा कि पंचायतों ने जो ज्ञापन सौंपा था उन्हें आगामी कार्रवाई के लिए प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व खनन विभाग को भेज दिया है। कोलतार लगाने वाले व्यक्ति को प्रशासन की तरफ से भी कोई एनओसी जारी नही की गई है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.