पीडि़त ने छेड़ी एड्स के खिलाफ जंग

एचआइवी की चपेट में आने के बाद शिमला के 42 वर्षीय युवक ने एड्स के खिलाफ ही जंग छेड़ दी है। वह अब तक शिविर के माध्यम से करीब 200 ट्रक व टैक्सी चालकों को जागरूक कर चुका है।

Neeraj Kumar AzadTue, 30 Nov 2021 11:40 PM (IST)
पीडि़त ने छेड़ी एड्स के खिलाफ जंग।

यादवेन्द्र शर्मा, शिमला। एचआइवी की चपेट में आने के बाद शिमला के 42 वर्षीय युवक ने एड्स के खिलाफ ही जंग छेड़ दी है। वह अब तक शिविर के माध्यम से करीब 200 ट्रक व टैक्सी चालकों को जागरूक कर चुका है। इससे पहले सामान्य जीवन जी रहा था, लेकिन नशे की लत के कारण कब एचआइवी की चपेट में आ गया पता ही नहीं चला। जब दस्त और कमजोरी अधिक होने लगी तब जांच में पता चला। इसके बाद हिम्मत नहीं हारी और पूरे परिवार के साथ 'नो एचआइवी, नो एड्सÓ जागरूकता का अभियान छेड़ दिया। एनजीओ के मध्यम से ट्रक व टैक्सी चालकों सहित युवाओं को नशे के साथ-साथ एचआइवी व एड्स के खिलाफ जागरूक कर रहा है।

असुरक्षित यौन संबंधों के साथ नशे की लत और सैक्स वर्कर्स के कारण एचआइवी संक्रमण व एड्स बढ़़ रहा है। प्रदेश में 4752 एचआइवी संक्रमित लोग हैं। इनमें 25 तो बच्चे हैं जो इसके लिए जंग लड़ रहे हैं। प्रदेश में बीते वर्ष की अपेक्षा इस बार एचआइवी संक्रमितों की संख्या बढ़ी है।

तथ्य व सुविधाएं

-1992 में आया प्रदेश में पहला एचआइवी केस

-5 साल से कम उम्र के 25 बच्चे व नवजात भी संक्रमित

एचआइवी संक्रमण की चार स्टेज

-प्रथम स्टेज : शंका,संक्रमित पाए जाना,सीडी 4 काउंट एक हजार से अधिक, रोग प्रतिरोधक क्षमता सामान्य।

-दूसरी स्टेज : रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होना,सीडी 4 काउंट एक हजार से कम,कमजोरी।

-तीसरी स्टेज : व्यक्ति का वजन कम होना, दस्त और अन्य छोटी बीमारी का न रुकना, सीडी 4 काउंट 500 से अधिक।

-चौथी स्टेज : संक्रमण का न रुकना बार-बार बीमार होना, बहुत अधिक कमजोरी,डायरिया बढ़ जाना।

प्रदेश में एचआइवी संक्रमित

जिला                          2017              2018             2019         2020           2021

कांगड़ा                       1021               1123            1243          1297          1249

हमीरपुर                      802                   895            920             920            958

मंडी                            448                  531             560             595            588

ऊना                            393                  477             502            514             554

बिलासपुर                     312                   390             386           462             413

सोलन                         175                    201              213           227            223

शिमला                       143                     177              220          231             253

कुल्लू                          70                      126             141           159             171

चंबा                            68                      99                116           118             127

सिरमौर                       25                     39                  44               48             62

लाहुल स्पीति                 04                     05                  05             05             20

गैर हिमाचली                 65                     91               112             112          129

कुल                         3531                4162              4472         4702          4752

हिमाचल को 2030 तक एड्स मुक्त करने के लिए निर्णायक थ्री जीरो यानी जीरो संक्रमण, जीरो मौत और जीरो भेदभाव मुहिम को शुरू किया गया है। इसके लिए एचआइवी जांच के साथ जागरूक किया जा रहा है।

-डा. घनश्याम सिंह, राज्य कार्यक्रम अधिकारी, राज्य एड्स नियंत्रण समिति शिमला।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.