धरमाण सब्जी मंडी में बिना बोली लगाए कौढि़यों के भाव खरीद ली जा रही किसानों से सब्‍जी, पढ़ें पूरा मामला

Himachal Farmers छोटा भंगाल घाटी के किसानों को उनकी सब्जियों का सही दाम नहीं मिल पा रहा है। यहां पर धरमाण सब्जी मंडी में पहुंच रही सब्जियां बिना बोली के ही बेची जा रही हैं। किसानों ने ठेकेदार ओर आढ़तियों पर मनमानी का आरोप लगाया है।

Rajesh Kumar SharmaSun, 19 Sep 2021 07:04 AM (IST)
छोटा भंगाल घाटी के किसानों को उनकी सब्जियों का सही दाम नहीं मिल पा रहा है।

बरोट, संवाद सहयोगी। Himachal Farmers, छोटा भंगाल घाटी के किसानों को उनकी सब्जियों का सही दाम नहीं मिल पा रहा है। यहां पर धरमाण सब्जी मंडी में पहुंच रही सब्जियां बिना बोली के ही बेची जा रही हैं। किसानों ने ठेकेदार ओर आढ़तियों पर मनमानी का आरोप लगाया है। क्षेत्र में 157 हेक्टेयर में खेती होती है। धरमाण सब्जी मंडी में रोजाना 300 क्विंटल के करीब गोभी, बंद गाभी, ब्रोकली, चाइना गोभी सहित अन्य सब्जियां पहुंच रही हैं। घाटी के नेर गांव के सब्जी उत्पादक शिव कुमार, तारा चंद, धरमाण गांव के रामसरन, जितेंद्र, रागी राम, जगदेव सिंह  ने बताया किसान सब्जियों को बेचने के लिए धरमाण मंडी ला रहे हैं। लेकिन पिछले तीन चार दिनों में उनकी सब्जियों की ठेकेदारों द्वारा बोली न करवाने से सस्ते दाम में ही खरीद रहे हैं।

विरोध करने पर भी कार्रवाई नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि यहां आढ़तियों और ठेकेदारों की मिलीभगत चल रही है। मंडी में आजकल प्रतिदिन 300 क्विंटल से ज्‍यादा सब्जी जिसमें फूल गोभी, बंद गोभी, चाइना गोभी, ब्रोकली, मूली तथा धनिया आदि पहुंच रहे हैं। लेकिन सही दाम न मिलने के कारण वह मायूस हैं।

वहीं जिला परिषद सदस्य पवना देवी, जनकल्याण सभा के प्रदेश अध्यक्ष चुनी लाल ने प्रशासन तथा मार्केटिंग बोर्ड से सब्जी मंडी धरमाण का जायजा लेने और किसानों को उचित दाम मुहैया करवाने की मांग की है।

उधर इस बारे में कांगडा में स्थित मार्केटिंग बोर्ड के सहसचिव पीएस पठानिया ने कहा सब्जी मंडी धरमाण में अगर ठेकेदार मौजूद हो तो तैनात आढ़ती बोली अवश्य करवाएं, अगर बोली नहीं करवाई जा रही है तो बैजनाथ के कार्यरत बोर्ड के कर्मचारी व सब्जी मंडी धरमाण के इंचार्ज को उपस्थित रहने के आदेश दे दिए जाएंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.