Piyush Goyal: लाभार्थी बाेले, पीएम की अन्‍न योजना से मिला लाभ, राशन की बजाय बच्‍चों की पढ़ाई पर खर्च किया पैसा

Union Minister Piyush Goyal केंद्रीय वाणिज्य उद्योग खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल आज शनिवार को सुबह 11 बजे प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के छह जिलों के लाभार्थियों से वर्चुअल संवाद करेंगे। योजना के तहत शिमला मंडी बिलासपुर कांगड़ा चंबा और हमीरपुर के लाभार्थियों से संवाद करेंगे।

Rajesh Kumar SharmaSat, 25 Sep 2021 07:47 AM (IST)
केंद्रीय वाणिज्य, उद्योग, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल व अन्‍य लोगों से वर्चुअली बात करते हुए।

शिमला, राज्य ब्यूरो। Union Minister Piyush Goyal, केंद्रीय वाणिज्य, उद्योग, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के छह जिलों के लाभार्थियों से वर्चुअल संवाद किया। पीयूष ने कांगड़ा की गुड्डी देवी से पूछा कि आपको प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना से राशन मिल रहा है। गुड्डी देवी ने बताया कि उन्हें 15 किलो चावल और 10 किलो गेहूं मिल रहा है। उनके पास कोई भी साधन नहीं था इससे बहुत सहायता मिली है और प्रधानमंत्री का धन्यवाद किया। आप किसान हैं तो अन्य योजनाओं का भी लाभ मिलता है, इस पर महिला ने कहा उन्‍हें छह हजार रुपये भी मिले हैं। मंत्री ने पूछा राज्य की और कोई योजना जिससे लाभ मिला है, महिला ने बताया परिवार का हिम केयर कार्ड बना है गृहणी सुविधा योजना का भी लाभ मिला है। इसके लिए उन्‍होंने मुख्यमंत्री का आभार जताया। पीयूष गोयल ने कहा कि कांगड़ा बहुत अच्छी जगह है और जब बचपन में भी बहुत साल पहले यहां आया था। मुख्यमंत्री से कहूंगा कि मुझे कांगड़ा लेकर जाएं।

चंबा से उषा देवी से बात करते हुए पीयूष गोयल ने कहा कि खजियार भी बहुत प्रसिद्ध है। आप हमें कभी बुलाएं। लाभार्थी ने कहा हमें जब राशन की जरूरत थी तो सरकार ने बहुत सहायता की मुफ्त राशन प्रदान किया। जिस दुकान से राशन लेते हैं क्या वह कोविड-19 पहले इसके लिए मास्क और शारीरिक दूर का पालन करता है मास्क पहनकर ही बैठता है और शारीरिक दूरी का पालन करवाया जाता है।

हमीरपुर की सरोज कुमारी से बात करते हुए कहा कि आप बाबा बालक नाथ की तपोभूमि से संबंध रखते हैं जो पैसे भेजते हैं उससे क्या लाभ होता है। पीयूष गोयल ने पूछा कि यदि योजना नहीं होती तो क्या नुकसान होता। इस पर सरोज कुमारी ने कहा कि बच्चे पढ़ नहीं पाते और जो पैसा राशन पर लगना था वह बच्चों की पढ़ाई पर खर्च किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत शिमला, मंडी, बिलासपुर, कांगड़ा, चंबा और हमीरपुर के लाभार्थियों से संवाद किया। राज्य अतिथि गृह पीटरहाफ शिमला में हुए इस कार्यक्रम के लाइव प्रसारण के लिए 140 स्थानों पर एलईडी स्क्रीन लगाई गईं। इस योजना के तीसरे और चौथे चरण के तहत 10 लाभार्थियों को दो-दो किलो के चावल के बैग भी प्रदान किए। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और अन्य मंत्रियों सहित केंद्रीय अधिकारी भी मौजूद रहे। सभी जिलों में मुख्‍यालय स्‍तर पर इस कार्यक्रम का लाइव प्रसारण किया गया।

कोई शिकायत है तो बताएं, अभी हल हो जाएगा

मंडी से चूड़ामणि से बात करते हुए पीयूष गोयल ने कहा प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना से कोई परेशानी तो नहीं हो रही है या कोई असुविधा तो नहीं हो रही है। चूड़ामणि ने बताया कि पूरा लाभ मिल रहा है 10 किलो चावल 15 किलो आटा मिल रहा है। पीयूष गोयल ने कहा कि कोई शिकायत हो तो यहां बता दो अभी हल हो जाएगी। पीयूष ने चूड़ामणि को कहा मैं आपकी बात को पीएम मोदी तक पहुंचा दूंगा जो आपने धन्यवाद किया है। मोदी हर महीने लगभग हिमाचल आया करते थे, उन्हें हर गांव की जानकारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बहुत चिंता करते हैं हिमाचल की कुछ ज्यादा रुचि रहती है।

कोई भूखा न सोए, इसलिए शुरू की योजना

बिलासपुर की कृष्णा देवी से पीयूष गोयल ने पूछा कि क्या काम करते हैं। उन्होंने कहा गृहणी हूं, पीयूष गोयल ने कहा कि एम्‍स खुलने वाला है उससे क्या आपको लाभ होगा। कृष्णा देवी ने बताया कि हिम केयर कार्ड बना है वैक्सीन लग गई है परिवार के सभी लोगों ने लगा ली है। राशन की दुकान कितने किलोमीटर दूर है तो कृष्णा ने बताया आधा किलोमीटर है। मंत्री ने कहा कोई भी व्यक्ति भूखा ना सोए, इसके लिए इस योजना को शुरू किया गया था।

भंडारण क्षमता बढ़ाई जाएगी

केंद्रीय खाद्य सचिव ने कहा भंडारण की सुविधा को बढ़ाने की योजना है जिससे लोगों को राशन की कमी न हो जगह चयनित कर ली है, जहां पर नए गोदाम बनाने का कार्य शुरू हो गया है। नए बनने वाले गोदाम को जल्द पूर्ण किया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.