फूड सेफ्टी विभाग का हाल, 12 जिलों के लिए मात्र दो मोबाइल टेस्टिंग वैन

प्रदेश में खाद्य वस्तुओं की गुणवत्ता जांचने के लिए फूड सेफ्टी विभाग की टीम समय-समय पर दुकानों में जाकर सैंपल भरती है लेकिन इनकी जांच रिपोर्ट आने के लिए करीब एक माह तक इंतजार करना पड़ता है। जब तक रिपोर्ट आती है तब तक मिठाई हजम हो चुकी होती हैं।

Neeraj Kumar AzadTue, 30 Nov 2021 06:55 AM (IST)
12 जिलों के लिए दो मोबाइल टेस्टिंग वैन। जागरण

रजनीश महाजन, बिलासपुर । प्रदेश में खाद्य वस्तुओं की गुणवत्ता जांचने के लिए फूड सेफ्टी विभाग की टीम समय-समय पर दुकानों में जाकर सैंपल भरती है, लेकिन इनकी जांच रिपोर्ट आने के लिए करीब एक माह तक इंतजार करना पड़ता है। जब तक रिपोर्ट आती है तब तक मिठाई व अन्य खाद्य वस्तुएं हजम हो चुकी होती हैं। ऐसे में विभाग के पास एकमात्र साधन मोबाइल टेस्टिंग वैन है, जो मौके पर खाद्य वस्तु की गुणवत्ता की दो मिनट के भीतर बता देती है कि ये खाने योग्य है या नहीं। विडंबना है कि प्रदेश में केवल दो ही मोबाइल टेस्टिंग वैन हैं, जिन पर 12 जिलों की खाद्य वस्तुओं की जांच का जिम्मा है।

यदि दो जिलों में एक मोबाइल टेस्टिंग वैन उपलब्ध हो जाए तो विभागीय अधिकारियों को फूड सैंपल लेने के बाद इसकी रिपोर्ट आने के लिए इंतजार नहीं करना पड़ेगा। खाद्य वस्तुओं में पनीर, खोया, तेल, जूस, कुङ्क्षकग आयल आदि के सैंपल लिए जाते हैं। इन्हें जांच के लिए सोलन भेजा जाता है। यहां से रिपोर्ट 30 दिन के बाद आती है। मोबाइल टेस्टिंग वैन में ऐसे उपकरण लगे हैं जो मौके पर सैंपल की रिपोर्ट दे देती है। अधिकारियों की मानें तो मोबाइल टेस्टिंग वैन की कीमत लाखों रुपये है। यदि दो जिलों के लिए एक मोबाइल टेस्टिंग वैन उपलब्ध करवाई जाती है तो सरकार पर अधिक आर्थिक बोझ नहीं पड़ेगा।

सूत्रों की मानें तो यह वैन सोलन व धर्मशाला में ही उपलब्ध है। अन्य जिलों में जाने के लिए इसका महीने बाद नंबर आता है और वह भी केवल तीन दिन के लिए उपलब्ध होती है। यदि दो जिलों में एक वैन उपलब्ध करवाई जाए तो प्रति जिला में विभागीय अधिकारी 15 दिन तक सैंपल भरकर इनकी रिपोर्ट दे सकते हैं। इससे लोगों को खाने की बेहतर वस्तुएं उपलब्ध होंगी।

हर माह एक हजार सैंपल की जांच होती है मोबाइल टेस्टिंग वैन में

मोबाइल फूड टेस्टिंग वैन से लोगों को जागरूक किया जाता है। मेलों व बाजारों में सैंपल के टेस्ट भी भरे जाते हैं। यदि कोई टेस्ट फेल होता है तो उसका लीगल टेस्ट भी भरा जा सकता है। मोबाइल टेस्टिंग वैन में लक्ष्य निर्धारित किया जाता है। हर माह एक वैन में एक हजार सैंपल की जांच की जाती है। इसका प्रयोग सैंपलों को लैब तक पहुंचाने के लिए भी किया जाता है। इसमें रेफ्रिजरेट, एलइडी व लैब भी स्थापित होती है।

प्रदेश में केवल दो ही मोबाइल टेस्टिंग वैन उपलब्ध हैं। इन्हें केंद्र सरकार ही जारी कर सकती है। इनकी संख्या ज्यादा होने से अधिक सैैंपल की जांच की जा सकेगी। -एलडी ठाकुर, सहायक आयुक्त, खाद्य सुरक्षा विभाग सोलन

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.