top menutop menutop menu

किन्‍नौर में बादल फटने से आई बाढ़ में बह गए दो पुल, एनएच-पांच बड़े वाहनों के लिए बंद; भारी नुकसान

किन्‍नौर में बादल फटने से आई बाढ़ में बह गए दो पुल, एनएच-पांच बड़े वाहनों के लिए बंद; भारी नुकसान
Publish Date:Wed, 12 Aug 2020 12:50 PM (IST) Author: Rajesh Sharma

रिकांगपिओ, जेएनएन। हिमाचल के जनजातीय जिला किन्‍नौर में मूरंग तहसील के तहत भारी बारिश के बाद आई बाढ़ में दो पुल बह गए। किन्नौर के रिस्पा गांव के चेरांग नाले में बादल फटने से आई बाढ़ से भारी नुकसान हुआ है। रिस्पा गांव को जोड़ने वाले एकमात्र मार्ग पर बना पुल भी बह गया है। बाढ़ का पानी साथ लगते सतलुज नदी में जाने से अक्पा के पास एनएच-5 पर बना अस्‍थायी पुल भी बह गया। अब एनएच पर भारी वाहनों के पहिये पूरी तरह से थम गए हैं।

मंगलवार देर रात करीब साढे 12 बजे रेस्पा के चेरांग नाले में गड़गड़ाहट की आवाज आने लगीं, जिससे ग्रामीण सहम गए। ग्रामीणों ने नाले के आसपास के लोगों को सचेत कर दिया। अचानक नाले में आई बाढ़ से रिस्पा संपर्क सड़क व पुल पूरी तरह से बह गए। सड़क पर गहरी खाई बन गई है। अब लोगों को गांव आने जाने के लिए झूले का सहारा लेना पड़ रहा है। इस बाढ़ से पेयजल स्कीम व सिंचाई नहर को भी नुकसान हुआ है। इसके अलावा एक बागवान के सेब के बगीचे को भी आंशिक रूप से नुकसान पहुंचा है। चेरंग गरंग नहर भी करीब 300 से 400 मीटर बह गई है।

एनएच-5 पर भारी वाहनों की आवाजाही के लिए यह अस्‍थायी पुल बनाया गया था। बादल फटने के बाद च‍ेरांग नाले में आई बाढ़ का पानी जैसे ही सतलुज नदी में मिला तो पुल पलभर में धराशायी हो गया। इस घटना में भारी नुकसान हुआ है। गनीमत रही कि बाढ़ के दौरान पुल से कोई वाहन नहीं गुजर रहा था, अन्‍यथा जान माल का भारी नुकसान हाे सकता था। पुल के बहने से पूह और काजा के लिए भारी वाहनों की आवाजाही बाधि‍त हो गई है।

प्रशासन नुकसान का आकलन करने में जुट गया है। बताया जा रहा है बादल फटने के बाद आई बाढ़ से ग्रामीण क्षेत्र में भी नुकसान हुआ है। प्रशासन आज मौके पर पहुंचा है व लोगों की सहायता में जुट गया है। किन्‍नौर में करीब 15 साल पहले भी भयंकर बाढ़ आई थी, जिसमें कई लोगों की जान चली गई थी व करोड़ों रुपये का नुकसान झेलना पड़ा था।

बुधवार सुबह बाढ़ से हुए नुकसान का आकलन करने एडीएम पूह अश्वनी कुमार नायब तहसीलदार मूरंग राजेश नेगी, लोक निर्माण विभाग के अधिशाषी अभियंता प्रकाश मौके पहुंचे। एसडीएम ने बताया इस बाढ़ से भारी नुकसान हुआ है तथा राजस्व विभाग द्वारा आकलन किया जा रहा है।

एसडीएम पूह अश्वनी कुमार ने बताया इस बाढ़ से करीब एक करोड़ का नुकसान होने का अनुमान है तथा पूह क्षेत्र की नकदी फसलों मटर आदि की सुचारू रूप से सप्लाई के लिए पिकअप आदि वाहनों की आवाजाही के लिए व्यवस्था की जा रही है। अकपा में बड़े वाहनों की आवाजाही के लिए बैली ब्रिज बनाने के लिए बीआरओ से बात चली हुई है।

यह भी पढ़ें: Himachal Weather Forecast: प्रदेश में आज भी भारी बारिश की संभावना, मौसम विशेषज्ञों ने किया सतर्क

यह भी पढ़ें: हिमाचल में बनेंगी नई पंचायतें, 200 से 250 पंचायतों के गठन के बाद समय पर होंगे चुनाव, पढ़ें खबर

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.