इस पूर्व सैनिक का उगाया यह आम है खास, एक किलो तक है वजन

देश की सीमा पर जंग के दौरान दुश्मनों से दो-दो हाथ करने वाले बंता सिंह ने जब बागवानी में हाथ आजमाया तो उसमें भी सफलता मिली। पेड़ में लगे एक आम का वजन एक किलोग्राम से अधिक निकला।

Virender KumarSun, 01 Aug 2021 05:54 PM (IST)
एक किलो आम के साथ बंता सिंह। जागरण

बंगाणा, अजय शर्मा। देश की सीमा पर जंग के दौरान दुश्मनों से दो-दो हाथ करने वाले बंता सिंह ने जब बागवानी में हाथ आजमाया तो उसमें भी सफलता मिली। उपमंडल बंगाणा क्षेत्र की टकोली पंचायत के निवासी पूर्व सैनिक बंता सिंह पुत्र धनी राम को बचपन से ही पेड़-पौधे लगाने का बहुत शौक था जिसके चलते उन्होंने अपने बगीचे में अलग-अलग किस्म के पौधे लगाए हुए हैं। इनमें विशेषकर मौसमी, हरड़ बहेड़ा, आंवला, संतरा, गलगल सहित आम की अलग-अलग किस्मों के पौधे लगा रखे हैं। कुछ आम के बढिय़ा किस्म के पौधे भी हैं। पेड़ में लगे एक आम का वजन एक किलोग्राम से अधिक निकला। बंता ङ्क्षसह ने कहा कि यह सब मेहनत का फल है। उन्होंने अपने बगीचे में पेड़ पर लगे आम को दिखाया। फिलहाल ये आम स्थानीय लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं।

सोहारी पंचायत में किया पौधारोपण

एक बूटा बेटी के नाम कार्यक्रम के तहत रविवार को ग्राम पंचायत सोहारी में पौधारोपण किया गया। पंचायत सदस्यों व ग्रामीणों के द्वारा पौधारोपण किया गया। इस मौके पर पंचायत प्रधान संजीव संधु ने लोगों से आह्वान करते हुए कहा कि आज के परिवेश में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के साथ साथ पौधारोपण भी जरूरी हो गया है। पर्यावरण में हो रहे भारी बदलाव के लिए मनुष्य खुद ही वनों को काटकर अपने विनाश को आमंत्रित कर रहा है। यदि ऐसा ही हाल रहा तो एक दिन मनुष्य को सांस लेने के लिए आक्सीजन भी नहीं मिल पाएगी। इसलिए आज हम सभी का यह दायित्व बनता है कि हम वनों को बचाने और नए पौधों को लगाने की और ध्यान दें। इस अवसर पर डा. सुरेश गर्ग, मोहन लाल, संजीव कुमार, परमजीत, देवराज, सुखदेव शर्मा सहित कई मौजूद रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.