बड़े नेताओं की जंग में पिसे पदाधिकारी

बड़े नेताओं की जंग में पिसे पदाधिकारी
Publish Date:Sat, 31 Oct 2020 04:20 AM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, धर्मशाला : ज्वालामुखी भाजपा में धधकी विरोध की ज्वाला भाजपा मंडल सहित अन्य मोर्चो के पदाधिकारियों पर फूटी है। बड़े नेताओं की जंग का खामियाजा अब भाजपा के ही नेताओं को भुगतना पड़ा है।

पार्टी हाईकमान ने हस्तक्षेप भी किया, लेकिन अंदरखाते यह जंग जारी रही। इसका खामियाजा अनुशासनहीनता के रूप में भाजपा मंडल ही नहीं बल्कि संगठनों के पदाधिकारियों को पदों से हाथ धोकर भुगतना पड़ा है। इस पूरे मामले को अनुशासनहीनता के दायरे में लेते हुए पार्टी अध्यक्ष सुरेश कश्यप ने किसी भी पदाधिकारी को पार्टी से बर्खास्त तो नहीं किया गया, लेकिन सभी को अनुशासन का पाठ पढ़ाते हुए उन्हें जिम्मेदारियों से मुक्त कर दिया गया है। मिटाने पर भी नहीं मिट रहीं दूरियां

ज्वालामुखी भाजपा में विवाद नया नहीं है। दो नेताओं में छिड़ी जंग को लेकर वरिष्ठ नेतृत्व के हस्तक्षेप से कुछ विराम भी लगा था पर मंडल स्तर पर कहीं न कहीं दूरियां बरकरार रहीं। इस घटनाक्रम के बाद पार्टी अध्यक्ष के निर्णय को सभी ने स्वीकारा भी और इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से भी बात करने का निर्णय लिया गया। मंदिर ट्रस्ट में नियुक्तियों को लेकर छिड़ा था विवाद

ज्वालामुखी मंदिर ट्रस्ट में न्यासियों की नियुक्तियों को लेकर विवाद शुरू हुआ था। धीरे-धीरे विवाद बढ़ता गया और शिमला तक पहुंचा। यहां भी मामले को शांत करवाने का प्रयास किया गया। उसके बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के जिला कांगड़ा प्रवास के दौरान ज्वालामुखी की बैठक में भी इस विवाद को खत्म करने की बात हुई और एकजुटता के साथ आगे बढ़ने का प्रण भी हुआ था। पर कुछ समय बाद हालात फिर बिगड़ गए। पार्टी ने सोच-समझ कर ही निर्णय लिया होगा। वह अनुशासित सिपाही हैं। कई वर्ष से पार्टी की सेवा कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे। जो भी जिम्मेदारी उन्हें मिलेगी उसे बखूबी निभाया जाएगा।

मान चंद राणा, निवर्तमान भाजपा मंडल अध्यक्ष ज्वालामुखी। मंडल भाजपा के पदाधिकारियों को सिर्फ पदमुक्त किया है। सभी पार्टी के कार्यकत्र्ता रहेंगे और पार्टी का काम करते रहेंगे। अनुशासनहीनता के दायरे में लाकर कार्रवाई की है। जल्द कार्यकारी कमेटी का गठन किया जाएगा, जो सभी की सहमति और सहयोग से बनेगी।

संजीव शर्मा, संगठनात्मक जिलाध्यक्ष देहरा। पार्टी हाईकमान के इस निर्णय पर सभी कार्यकत्र्ताओं के साथ मिल-बैठकर समीक्षा की जाएगी। वह शीघ्र ही मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कश्यप से मिलकर इसके बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे।

रमेश धवाला, विधायक एवं राज्य योजना बोर्ड के उपाध्यक्ष।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.