तंबाकू मुक्त शिक्षण संस्थान बनेगा टांडा मेडिकल कालेज

डा. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कालेज एवं अस्पताल कांगड़ा स्थित टांडा को तंबाकू मुक्त स्वास्थ्य शिक्षण संस्थान बनाया जाएगा। अस्पताल परिसर के 100 मीटर के दायरे में तंबाकू उत्पादों की बिक्री प्रतिबंधित की जाएगी। प्रदेश के 150 से अधिक स्कूलों को तंबाकू मुक्त बनाने के लिए अभियान चलाया जाएगा।

Vijay BhushanThu, 28 Oct 2021 10:39 PM (IST)
कांगड़ा के टांडा स्थित स्थित डाक्टर राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कालेज।

टांडा, जागरण संवाददाता। डा. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कालेज एवं अस्पताल कांगड़ा स्थित टांडा को तंबाकू मुक्त स्वास्थ्य शिक्षण संस्थान बनाया जाएगा। अस्पताल परिसर के 100 मीटर के दायरे में तंबाकू उत्पादों की बिक्री प्रतिबंधित की जाएगी। टांडा मेडिकल कालेज के साथ-साथ प्रदेश के 150 से अधिक स्कूलों को तंबाकू मुक्त बनाने के लिए अभियान चलाया जाएगा। टांडा मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. भानू अवस्थी की अध्यक्षता में हुई बैठक में निर्णय लिया गया कि 180 तक अभियान चलाकर इस लक्ष्य को हासिल किया जाएगा।

सामुदायिक चिकित्सा विभाग के अध्यक्ष एवं सेंटर फार एडवांसिंग टोबेको कंट्रोल हिमाचल प्रदेश (कैच) के निदेशक प्रोफेसर डा. सुनील कुमार रैना ने टांडा मेडिकल कालेज को तंबाकू मुक्त स्वास्थ्य शिक्षण संस्थान बनाने का प्रस्ताव रखा। इस लक्ष्य को हासिल करने के संबंध में अपनाए जाने वाले उपायों पर बैठक में चर्चा की गई। इस संबंध में सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित किया गया। निर्णय लिया गया कि संस्थान को तंबाकू मुक्त बनाने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइडलाइन का पालन किया जाएगा। बैठक में संयुक्त निदेशक डा. मेजर अवनिंद्र कुमार व चिकित्सा अधीक्षक डा. मोहन सिंह भी उपस्थित रहे।

ऐसे तंबाकू मुक्त बनेगा टांडा

-संस्थान में तंबाकू मुक्त कमेटी का गठन किया जाएगा, जिसमें विभिन्न विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों का शामिल किया जाएगा। एक नोडल अधिकारी तैनात किया जाएगा, जिसकी निगरानी में तंबाकू मुक्त अभियान चलेगा।

-सिगरेट, बीड़ी समेत अन्य तंबाकू उत्पादों का उपयोग न करने के लिए जागरूक किया जाएगा। तंबाकू उत्पादों का इस्तेमाल न करने के संबंध में गाइडलाइन को विद्यार्थियों के साथ-साथ स्टाफ के प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल किया जाएगा।

-संस्थान को तंबाकू मुक्त बनाने के लिए विभिन्न प्रतियोगिताएं व जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। इनमें जागरूकता रैलियां, प्रशिक्षण कार्यक्रम, नाटक व प्रतियोगिताएं करवाई जाएंगी।

-संस्थान में प्रवेश द्वार, कैंटीन, हास्टल, मेस, वार्ड, कार्यालयों व दुकानों में तंबाकू मुक्त संस्थान के बोर्ड लगाए जाएंगे। इनमें नोडल अधिकारी के नंबर समेत गाइडलाइन भी लिखी जाएंगी।

-परिसर समेत समेत संस्थान के भीतर कहीं भी बीड़ी, सिगरेट समेत अन्य तंबाकू उत्पादों का उपयोग पूर्णतया प्रतिबंधित किया जाएगा। उल्लंघन करने वालों पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

-विद्यार्थियों व स्टाफ के लिए प्रशिक्षण, ओरिएंटेशन कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। उन्हें संस्थान को तंबाकू मुक्त बनाने के लिए की गई गतिविधियों से अवगत करवाया जाएगा।

टांडा मेडिकल कालेज को तंबाकू मुक्त शिक्षण संस्थान बनाया जाएगा। पहाड़ी राज्यों में टांडा मेडिकल कालेज पहला स्वास्थ्य शिक्षण संस्थान होगा। सेंटर फार एडवांसिंग टोबेको कंट्रोल हिमाचल प्रदेश के अभियान 'मुक्त रहो, उन्मुक्त रहोÓ के तहत 180 दिन में प्रदेश के 150 से अधिक स्कूलों को तंबाकू मुक्त बनाने के प्रयास किए जाएंगे। टांडा मेडिकल कालेज में हुई बैठक में ये निर्णय लिया गए हैं।

-प्रोफेसर डा. सुनील कुमार रैना, निदेशक कैच एवं विभागाध्यक्ष सामुदायिक चिकित्सा विभाग।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.