शांता कुमार ने वैक्‍सीनेशन की धीमी रफ्तार पर पीएम मोदी को लिखा पत्र, यह फार्मूला अपनाने की दी सलाह

शांता कुमार ने प्रधानमंत्री मोदी को एक पत्र लिख कर यह कहा है कि कोरोना का सबसे बेहतर इलाज सब लोगों को वैक्‍सीन टीका लगाना है। वैक्‍सीन की इतनी कमी है कि आज की गति से पूरे देश के लोगों को दो साल में भी टीका नहीं लगाया जा सकेगा।

Rajesh Kumar SharmaSat, 24 Jul 2021 02:18 PM (IST)
पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है।

पालमपुर, संवाद सहयोगी। पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिख कर यह कहा है कि कोरोना का सबसे बेहतर इलाज सब लोगों को वैक्‍सीन टीका लगाना है। लेकिन वैक्‍सीन की इतनी कमी है कि आज की गति से पूरे देश के लोगों को दो साल में भी टीका नहीं लगाया जा सकेगा। उन्होंने याद दिलवाया कि वे संसद की स्थायी समिति के अध्यक्ष थे। समिति ने दवाई उद्योग पर सरकार को एक रिपोर्ट दी थी। उस में कहा था कि विदेशी वायर कंपनी कैंसर की एक दवाई मैक्साबार 2 लाख 80 हजार रुपये में बेचती थी, लोग बहुत परेशान थे। उस समय सरकार ने भारत की स्वदेशी कंपनी हैदराबाद की नैटको को कम्पलसरी लाईसेंस दिया। 2 लाख 80 हजार रुपये की दवाई उसी गुणवत्ता की 8 हजार 800 रुपये में बिकने लगी। दवाई की कमी भी नहीं रही। कंपनी ने पेटेंट कंट्रोलर से लेकर उच्च न्यायालय तक मुकदमा लड़ा। उच्च न्यायालय ने अपने ऐतिहासिक निर्णय में सरकार के पक्ष में फैसला दिया।

शांता कुमार ने कहा सरकार भारत की 10 स्वेदशी कंपनियों को टीका बनाने का कंपलसरी लाईसेंस दे। करोड़ों की संख्या में वैक्‍सीन बनेगी। बहुत सस्ते दाम पर बिकेगी। कुछ ही महीनों में पूरे भारत के लोगों को टीका लगा कर राहत दी जा सकती है। उन्होंने कहा जो बात उनकी कमेटी ने 10 साल पहले कही थी और जिसे 15 दिन पहले उन्होंने कहा था। अब वही बात भारत सरकार के एक विद्वान और योग्य मंत्री नितिन गडकरी ने कही है।

उन्होंने भारत सरकार से आग्रह किया है कि सरकार अतिशीघ्र कंपलसरी लाइसेंस दे और करोड़ों लोगों को राहत दे। यदि सरकार ऐसा नहीं करती तो कारण बताए, जो अटल बिहारी वाजपेयी के समय सरकार कर सकती थी वह आज की सरकार क्यों नहीं कर सकती।

शांता कुमार ने कहा नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कोरोना महामारी का पूरे देश में अच्छे तरीके से उपचार तथा अन्य व्यवस्थाएं की जा रही हैं। एक कठिनाई से पूरा देश परेशान हैं। कोरोना का सबसे बढ़िया ईलाज है सभी लोगों को वैक्सीन टीका लगना।  ईजराइल ने यह किया और उसे बहुत अधिक लाभ हुआ। पेटेंट कानून के कारण टीका अधिक संख्या में उपलब्ध नहीं है। जिस गति से भारत में टीका लगाया जा रहा है उस गति से 140 करोड़ लोगों को टीका लगाने में दो साल से भी अधिक समय लगेगा।

उन्होंने कहा कि भारत सरकार पर यह आरोप लग रहा है कि बहुराष्ट्रीय विदेशी कंपनियों के दबाव में भारत ऐसा नहीं कर रहा। उसके लिए इस आरोप पर विश्वास करना कठिन है। उन्हें यह समझ नहीं आ रही कि यदि उस समय कंपलसरी लाइसेंस दिया जा सकता था तो आज क्यों नहीं दिया जा रहा। आज उससे भी अधिक भयंकर परिस्थिति है। टीके के लिए पूरे देश में मारामारी हो रही है। इस परिस्थिति में भारत सरकार स्वदेशी कंपनियों को कंपलसरी लाइसेंस देकर भारत के करोड़ों लोगों को टीका क्यों नहीं पहुंचा रही है। शांता कुमार ने विश्वास जताया कि इस संबंध में प्रधानमंत्री अतिशीध्र कार्रवाई करेंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.