16 दिसंबर को तीन दिवसीय दौरे पर कांगड़ा पहुंचेंगे RSS के सरसंघचालक मोहन भागवत, जानिए कार्यक्रम

RSS Sarsanghchalak Mohan Bhagwat संघ के सर संघचालक मोहन भागवत 16 दिसंबर को तीन दिवसीय दौरे पर कांगड़ा आएंगे। 17 18 और 19 दिसंबर को मोहन भागवत संघ के स्वयंसेवकों से रूबरू होंगे। मोहन भागवत के कांगड़ा आने पर स्वयंसेवक संघ कांगड़ा कार्यालय में तैयारी शुरू कर दी गई है।

Rajesh Kumar SharmaSat, 27 Nov 2021 10:11 AM (IST)
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत।

कांगड़ा, रितेश ग्रोवर। RSS Sarsanghchalak Mohan Bhagwat, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत 16 दिसंबर को तीन दिवसीय दौरे पर कांगड़ा आएंगे। 17, 18 और 19 दिसंबर को मोहन भागवत संघ के स्वयंसेवकों से रूबरू होंगे। मोहन भागवत के कांगड़ा आने पर स्वयंसेवक संघ कांगड़ा कार्यालय में तैयारी शुरू कर दी गई है। संघ कार्यालय कांगड़ा में आयोजित कार्यक्रम में उनका बौद्धिक संबोधन भी होगा व कांगड़ा में स्वयंसेवकों के योग कार्यक्रम में भी हिस्सा लेंगे। भारत को महाशक्ति नहीं, बल्कि विश्व गुरु बनाने के पक्षधर मोहन भागवत धर्मशाला में पूर्व सैनिकों के साथ भी चर्चा करेंगे। इस दौरान वह शाहपुर में भी स्वयंसेवकों के कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे।

कांगड़ा सह विभाग के संघचालक भूषण रैना ने सरसंघचालक मोहन भागवत के कांगड़ा आने की पुष्टि की। उन्‍होंने बताया मोहन भागवत 16 दिसंबर को हवाई मार्ग से कांगड़ा एयरपोर्ट पहुंचेंगे जहां से सीधे कांगड़ा संघ कार्यालय पहुंचेंगे। तीन दिन संघ कार्यालय कांगड़ा से ही मोहन भागवत के कार्यक्रम आयोजित होंगे और 20 दिसंबर को उनकी वापसी होगी।

उन्होंने बताया उनके कार्यक्रम के दौरान यहां भाजपा की बड़ी हस्तियों के आने की भी संभावना है। तीन दिवसीय कांगड़ा दौरे को लेकर पूरे प्रदेश से स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी कांगड़ा पहुंचेंगे। सरसंघचालक के आने की सूचना के बाद वे उत्साहित हैं। उनके दौरे के दौरान हालांकि यहां कोई पथ संचलन वगैरह का कार्यक्रम नहीं है, अलवत्ता उनके उद्बोधन में स्वयंसेवकों से चर्चा की जाएगी।

प्राचीन संघ कार्यालयों में शुमार है कांगड़ा का संघ कार्यालय

हिमाचल के इतिहास में साल 1989 के बाद यह दूसरा मौका होगा, जब संघ के सरसंघचालक कांगड़ा पहुंच रहे हैं। इससे पहले 1989 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक बाला साहब देवरस कांगड़ा कार्यालय पहुंचे थे। आजादी से पहले 1942 को इसी स्थान पर संघ की शाखाएं लगनी शुरू हुई थी। प्रदेश के प्रथम संघ प्रचारक ठाकुर राम सिंह के नेतृत्व में इसी स्थान पर संघ की पहली शाखा लगी थी। पहले यह स्थान आचार्य विष्णु गिरी का स्थान था और उन्होंने जब संघ की गतिविधियों को देखा तो वह काफी प्रभावित हुए और यह स्थान उन्होंने संघ के नाम कर दिया। इसी संघ कार्यालय से असंख्य संघ प्रचारक देश के कोने कोने में पहुंचे हैं। कांगड़ा संघ कार्यालय में भाजपा सरकार के सभी मुख्यमंत्री यहां पहुंचे हैं। मोहन भागवत के कांगड़ा दौरे को लेकर इस दौरान सुरक्षा के कड़े इंतजाम होंगे। बता दें कि कांगड़ा में मौजूदा समय में चार शाखाएं लगती हैं, जिसमें करीब 100 स्वयंसेवक हिस्सा लेते हैं।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.