हिमाचल में बरसात का कहर, बारिश से 382 सड़कें बाधित, चंबा में पिता-पुत्र बहे

हिमाचल में बारिश लोगों के लिए आफत बनने लगी है। प्रदेश में रविवार रात से हुई भारी बारिश के कारण भूस्खलन होने से 382 सड़कें बाधित रहीं। इस कारण लोगों को गंतव्य स्थलों तक पहुंचने में दिक्कतें झेलनी पड़ीं। कई जगह घरों दुकानों व कार्यालयों में पानी भर गया।

Vijay BhushanMon, 19 Jul 2021 09:33 PM (IST)
चंबा-भरमौर एनएच पर भूस्खलन की चपेट में आने से रावी में कार गिरने के बाद बचाव कार्य में जुटे लोग।

धर्मशाला, जागरण टीम : हिमाचल में बारिश लोगों के लिए आफत बनने लगी है। प्रदेश में रविवार रात से हुई भारी बारिश के कारण भूस्खलन होने से 382 सड़कें बाधित रहीं। इस कारण लोगों को गंतव्य स्थलों तक पहुंचने में दिक्कतें झेलनी पड़ीं। प्रदेश में कई जगह लोगों के घरों, दुकानों व कार्यालयों में पानी भर गया। वहीं, चंबा जिला में चंबा-भरमौर राष्ट्रीय राजमार्ग पर बलोगी में सोमवार सुबह एक कार रावी नदी में समा गई। हादसे में कार में सवार महिला की मौत हो गई जबकि उसके पति व बेटा लापता हैं।

चंबा जिला की राड़ी पंचायत के चुकरासा गांव निवासी फरंगू राम पत्नी सुभद्रा व बेटे तेज सिंह के साथ सोमवार सुबह कार में अपने घर से गैहरा की तरफ निकले थे। बलोगी में पहाड़ी से भूस्खलन शुरू हो गया और कार उसकी चपेट में आकर साथ लगती रावी नदी में समा गई। सुभद्रा तेज धारा में बहती हुई काफी आगे निकल गई जिसका शव दुनाली गांव के समीप स्थानीय निवासी अशोक ठाकुर व उसके साथी ने बाहर निकाला। पुलिस अधीक्षक एस अरुल कुमार ने बताया कि लापता लोगों की तलाश में सर्च अभियान चलाया गया है। जिले के डलहौजी में दो दुकानें ढह गईं।

शिमला जिले में रामपुर की सफेद ढांक के समीप पहाड़ी से पत्थर गिरने पर कार चालक गंभीर रूप से घायल हो गया। बारिश से ऊना शहर में महिला पुलिस थाना जलमग्न हो गया। कांगड़ा जिले के फतेहपुर उपमंडल के तहत नगोह गांव में रविवार रात नाले के बहाव से दो मकान ढह गए और छह मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं। पांच पशुशालाएं भी जमींदोज हुई हैं। पठानकोट-मंडी राष्ट्रीय राजमार्ग सोमवार को 32 मील के पास मलबा गिरने से ढाई घंटे यातायात के लिए बाधित रहा। धर्मशाला-होशियारपुर मार्ग सुनेहत में मलबा गिरने से चार घंटे अवरुद्ध रहा। कोपरलाहड़ में पहाड़ी दरकने से रेल ट्रैक बाधित हो गया है। अंद्रेटा गांव में कार नाले में बह गई। ज्वालामुखी मंदिर मार्ग ल्हासे गिरने के कारण श्रद्धालुओं की आवाजाही के लिए बंद किया गया है। पालमपुर-सुजानपुर मार्ग व योल-53 मील संपर्क मार्ग यातायात के लिए बाधित रहे। वहीं, भूस्खलन से मनाली-चंडीगढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग पर रविवार देर रात से यातायात अवरुद्ध है। कुल्लू को जोडऩे वाला वैकल्पिक मार्ग मंडी-कमांद-कटौला-बजौरा भी बंद है। राष्ट्रीय राजमार्ग मंडी पर सात मील के पास पत्थर गिरने से इनोवा गाड़ी क्षतिग्रस्त हो गई। चार मील में एचआरटीसी की एक बस मलबे की चपेट में आ गई। बस में सवार यात्री बाल बाल बचे। बिलासपुर जिला में डंगा गिरने से कार व स्कूटी क्षतिग्रस्त हो गए। गोबिंदसागर झील का जलस्तर बढ़ गया है। प्रशासन ने लोगों को झील के किनारे न जाने की सलाह दी है।

उड़ान नहीं भर पाया एयर इंडिया का विमान

बारिश के कारण सोमवार को दिल्ली से कुल्लू के लिए एयर इंडिया का विमान उड़ान नहीं भर पाया। इस कारण दिल्ली से आने वाले 42 व कुल्लू से जाने वाले 20 यात्रियों को परेशानी हुई। सरचू के समीप ट्रक फंसने से मनाली-लेह मार्ग 10 घंटे अवरुद्ध रहा।

सड़कें बहाल करने के लिए 352 मशीनें तैनात

प्रदेश में सड़कें बहाल करने के लिए 352 मशीनें तैनात की गई हैं जिनमें जेसीबी, डोजर व टिप्पर शामिल हैं। लोक निर्माण विभाग ने 227 मशीनें किराये पर ही हैं। सड़कें बहाल होने में दो से तीन दिन लगेंगे। विभाग को बरसात के कारण पिछले महीने से अब तक 162 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है।

 

कहां कितनी सड़कें बाधित

जोन,सड़कें

मंडी,227

कांगड़ा,62

शिमला,49

हमीरपुर,37

राष्ट्रीय राजमार्ग,7

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.