राजा का तालाब उपतहसील खोलने की प्रक्रिया हुई तेज, डीसी के निर्देश पर अधिकारियों ने किया निरीक्षण

Raja Ka Talab Sub Tehsil फतेहपुर तहसील में बेशक जमीनी विवादों के मामले लंबित पड़े हों मगर राजा का तालाब में उप तहसील खोलने की प्रक्रिया तेज हो गई है। शुक्रवार को डीसी कांगड़ा निपुण जिंदल के आह्वान पर खंड विकास अधिकारी फतेहपुर राज कुमार का दौरा करने पहुंचे।

Rajesh Kumar SharmaSat, 25 Sep 2021 02:10 PM (IST)
राजा का तालाब में उप तहसील खोलने की प्रक्रिया तेज हो गई है।

राजा का तालाब, संवाद सूत्र। फतेहपुर तहसील में बेशक जमीनी विवादों के मामले लंबित पड़े हों, मगर राजा का तालाब में उप तहसील खोलने की प्रक्रिया तेज हो गई है। शुक्रवार को डीसी कांगड़ा निपुण जिंदल के आह्वान पर खंड विकास अधिकारी फतेहपुर राज कुमार, विभागीय जेई नीलम कुमारी, राजेश कुमार बिल्डिंग का दौरा करने पहुंचे। फतेहपुर प्रशासन राजा का तालाब चकबाड़ी रोड पर स्थित पौंग बांध विस्थापित सराय में नायब तहसीलदार बैठाए जाने की योजना पर मुहर लगा चुका है। लाखों रुपयों की लागत से बनी पौंग बांध विस्थापित सरायों का आजदिन तक किसी ने इस्तेमाल नहीं किया था। अब भू-राजस्व विभाग अधिकारी उसी सराय में बैठेंगे।

सन 1971 में 20,722 लोग हल्दून घाटी से विस्थापित हुए थे। सोलह हजार एक सौ लोगों की जमीनें पौंग बांध की लहरों में जल मग्न हो गई थीं। हिमाचल प्रदेश और राजस्थान सरकारों ने उस समय यह तय किया कि जिन विस्थापितों को जमीनें हिमाचल प्रदेश में नहीं मिलेंगी, उन्हें राजस्थान में मुहैया करवाई जाएंगी। कुछेक पौंग बांध विस्थापितों को राजस्थान में नहरी उपजाऊ मुरब्बे मिले हैं। अधिकतर लोगों को जैसलमेर में जबर्दस्ती बसाने की कोशिश रही। यहां मूलभूत सुविधाओं का अभाव रहा।

भू-अर्जन अधिकारी कार्यालय में आने वाले पौंग बांध विस्थापितों के ठहराव के लिए इस सराय का निर्माण किया गया था। हैरानी इस बात की उचित रख रखाव की वजह से पिछले दो दशक से किसी ने इस सरायें का उपयोग नहीं किया है। नतीजन सराय का पलस्तर उखड़ रहा। खिड़कियां, दरवाजे टूटे, बिजली वायरिंग बदहाल, सरायें के पीछे उगी घास और आस पास खरपतवार के पौधों ने वर्तमान में अपना डेरा जमा रखा है।

राजा का तालाब स्थित आयुर्वेदिक डिस्पेंसरी को इस सराय में शिफ्ट किए जाने की प्रकिया भी शुरू हुई, जो सिरे नहीं चढ़ी थी।मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कस्बा राजा का तालाब के लोगों को जहां उप तहसील खोले जाने का तोहफा पूर्व राज्यसभा सांसद कृपाल परमार के आग्रह पर दिया था। अब इस सराय में उपतहसील कार्यालय चलाए जाने से जनता को लाभ मिलेगा।

चकबाड़ी पंचायत प्रधान पीर्थि चंद का कहना कि सरकार ने पौंग बांध विस्थापित सराय में उप तहसील खोले जाने का सराहनीय फैसला लिया है। उनका कहना कि इस बाबत फतेहपुर प्रशासन सराय का निरीक्षण करके भी गए हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.