Piecemeal Workers Strike: पीसमील वर्कर्स की टूलडाउन हड़ताल ने बढ़ाई एचआरटीसी प्रबंधन की चिंता

HRTC Piecemeal Workers Strike हिमाचल पथ परिवहन निगम की वर्कशाप में कार्यरत पीस मील वर्कर्स ने फिर से आंदोलन आरंभ कर दिया है। ये अनिश्चितकालीन टूलडाउन हड़ताल पर चले गए हैं। राजधानी शिमला सहित प्रदेशभर ये काम पर नहीं गए।

Rajesh Kumar SharmaTue, 30 Nov 2021 08:32 AM (IST)
हिमाचल पथ परिवहन निगम की वर्कशाप में कार्यरत पीस मील वर्कर्स ने फिर से आंदोलन आरंभ कर दिया है।

शिमला, राज्य ब्यूरो। HRTC Piecemeal Workers Strike, हिमाचल पथ परिवहन निगम की वर्कशाप में कार्यरत पीस मील वर्कर्स ने फिर से आंदोलन आरंभ कर दिया है। ये अनिश्चितकालीन टूलडाउन हड़ताल पर चले गए हैं। राजधानी शिमला सहित प्रदेशभर ये काम पर नहीं गए। हड़ताल के कारण एचआरटीसी का काम प्रभावित हुआ है। बसों की मरम्‍मत में दिक्‍कत हो रही है। पहले भी आंदोलन चलाया था, लेकिन सरकार के आश्वासन के बाद ये काम पर लौट गए थे। अब आंदोलनकारियों ने वर्कशाप के बाहर बैठकर प्रदेश सरकार व निगम प्रबंधन के खिलाफ रोष प्रदर्शन किया। इससे निगम की सभी वर्कशाप में दिनभर काम प्रभावित हुआ। हिमाचल परिवहन निगम पीस मील कर्मचारी मंच के प्रधान खेम चंद, महासचिव हरि कृष्ण शर्मा  शर्मा, संयुक्त सचिव मनोज पाल सहित अन्य पदाधिकारियों ने कहा कि सरकार व निगम प्रबंधन ने पीसमील कर्मचारियों के साथ धोखा किया है। बार बार आश्वासन के बाद भी कर्मचारियों को अनुबंध पर नहीं लाया गया है।

जारी रहगी हड़ताल

प्रदेशभर में अब पीसमील कर्मचारी उस समय तक यह टूलडाउन हड़ताल जारी रखेंगे जब तक सरकार व निगम प्रबंधन अनुबंध पर लिए जाने के आदेश जारी नहीं करता है। मंच के पदाधिकारियों ने कहा परिवहन मंत्री बिक्रम स‍िंह ठाकुर ने होटल पीटरहाफ में पीसमील कर्मचारियों से 24 अगस्त को हुई वार्ता के समय प्रबंधक निदेशक की मौजूदगी में वादा किया था कि सितंबर शुरू के दो सप्ताह के भीतर अनुबंध पर ले लिया जाएगा । जिसके पश्चात पीसमील कर्मचारियों ने मंत्री की बात पर विश्वास करके आंदोलन को वापस लिया था, पर सरकार और निगम प्रबंधन ने वादाखिलाफी की है।

कई कर्मियों की हुई मौत

अनुबंध पर लिए जाने से पहले ही निगम के 5 पीसमील कर्मचारियों की मौत हो चुकी है। इन कर्मचारियों को उम्मीद की थी वह अनुबंध पर आएंगे लेकिन अनुबंध पर लिए जाने से पहले ही उनकी मौत हो गई। पीसमील कर्मचारी मंच पदाधिकारियों ने बताया कि इनमें एक कर्मचारी ने आत्महत्या कर जान दे दी थी। इसके अतिरिक्त एक की दुर्घटना और एक की वर्कशाप में ही दिल का दौरा पडऩे से मौत हुई थी। इसके अतिरिक्त दो कर्मचारियों की कोरोना संक्रमण की चपेट में आने से मौत हो गई थी।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.