ज्‍वालामुखी में पैराग्लाइडिंग की शुरूआत, लोगों में उत्साह, पर्यटन को भी बढ़ावा मिलने की आस जगी

बिलपट्टियां में पैराग्लाइडिंग शुरू होते ही जहां पर्यटन को बढ़ावा मिलने की आस जगी है। लोगों में भी रोजगार के अवसर पैदा होने का हौसला जगा है। बिलपट्टियां विधानसभा के चंगर क्षेत्र का वो हिस्सा है जहाँ अभी तक पर्यटन के जरिये रोजगार की तलाश मात्र कल्पना ही थी।

Richa RanaThu, 16 Sep 2021 03:30 PM (IST)
ज्वालामुखी के बिलपट्टियां में पैराग्लाइडिंग शुरू होते ही जहां पर्यटन को बढ़ावा मिलने की आस जगी है।

ज्वालामुखी, प्रवीण कुमार शर्मा। ज्वालामुखी के बिलपट्टियां में पैराग्लाइडिंग शुरू होते ही जहां पर्यटन को बढ़ावा मिलने की आस जगी है। वहीं लोगों में भी रोजगार के अवसर पैदा होने का हौसला जगा है। बिलपट्टियां विधानसभा के चंगर क्षेत्र का वो हिस्सा है जहाँ अभी तक पर्यटन के जरिये रोजगार की तलाश मात्र कल्पना ही थी। बुधवार को अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण संस्थान मनाली से ज्वालामुखी आई तकनीकी कमेटी के उत्साह तथा प्रशासनिक दिलचस्पी से साफ दिखा कि अब इस क्षेत्र को विकसित होने में देर नहीं लगेगी।

आजादी के 75वें वर्ष में ज्वालामुखी में साहसिक खेलों की शुरुआत के लिए पर्यटन विभाग के जिस अधिकारी ने सबसे अधिक कदमताल की है। लोग उनसे अपेक्षा कर रहे हैं कि बहुत जल्द पैराग्लाइडिंग के किसी बड़े आयोजन में बिलपट्टियाँ को भागीदार बनाकर इस साइट को लोगों की नजर में लायें ताकि अधिक से अधिक लोग यहाँ साहसिक खेलों का मजा ले सकें।

यह बोले लोग

पंकज ठाकुर कहते हैं कि चंगर क्षेत्र के बिलपट्टियाँ में साहसिक खेलों की अनुमति के लिए पर्यटन विभाग तथा पर्वतारोहण संस्थान की विशेष मुहिम रही है। लंबे समय से इस साइट की अनुसंशा का इंतज़ार था। अब इस इलाके के विकास को कोई रोक नहीं सकता। शुभम कपूर ने कहा कि ज्वालामुखी के विधायक के प्रयासों से क्षेत्र को यह सौगात मिली है। पर्यटन बिभाग के प्रयासों से बिलपट्टियां में पैराग्लाइडिंग के जरिये पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा देने में सहायता मिलेगी। रोजगार के अवसर पैदा होंगे तथा जीवन स्तर भी सुधरेगा। आनंद भूषण सूद ने कहा कि ज्वालामुखी में धार्मिक पर्यटन के कारण हजारों लोगों को रोजगार है।

पैराग्लाइडिंग की शुरूआत से यहां साहसिक खेलों के लिए पर्यटक दौड़े चले आयेंगें.चंगर को बिकास की मुख्यधारा में लाने के लिए बिलपट्टियां की साइट मील का पत्थर साबित होगी। संजीव भाटिया ने कहा कि बिलपट्टियाँ में साहसिक खेलों को हरी झंडी इस क्षेत्र के विकास को ग्रीन सिग्नल है.चंगर में और भी कई ऐसे स्थान है. जहां पर साहसिक खेलों का आयोजन आसानी से हो सकता है. पर्यटन बिभाग को इन्हें भी चिन्हित करके आगे बढ़ना चाहिए ताकि ज्वालामुखी के साथ वाले यह क्षेत्र भी पर्यटन मानचित्र पर दिखें।

दीपक राणा ने कहा कि अब विभाग को यहाँ के अधिक से अधिक लोगों को पैराग्लाइडिंग का प्रशिक्षण देना चाहिए ताकि पूरी तरह दक्षता होने के बाद लोगों को पैराग्लाइडिंग के रोमांच का लुत्फ उठाने में मदद मिल सके। युवाओं के रोजगार के लिए यहाँ पैराग्लाइडिंग के साथ अन्य साहसिक खेलों पर भी ध्यान अभी से देना होगा।

यह बोले पूर्व जिला परिषद सदस्य विजेंद्र कुमार

इस उपलब्धी के पीछे सौ फीसदी प्रयास ऊना तथा हमीरपुर के जिला पर्यटन अधिकारी रवि धीमान के रहे है। उनसे पैराग्लाइडिंग को लेकर काफी समय पहले प्रस्ताव रखा था। उन्होंने बिलपट्टियां में साहसिक खेलों के संचालन के लिए वो सब कुछ किया जो जरूरी था। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का आभार जिन्होंने ज्वालामुखी के लिए इतनी बड़ी सौगात दिलवाई है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.