एनएसयूआइ कार्यकर्ता बोले, केंद्रीय विश्वविद्यालय को छोड़ पार्टी दफ्तर बनाने में लगी है भाजपा

हिमाचल प्रदेश के केंद्रीय विश्वविद्यालय का अहम मुद्दा सरकार ने ठंडे बस्ते में डाल रखा है।
Publish Date:Sat, 24 Oct 2020 12:13 PM (IST) Author: Rajesh Sharma

धर्मशाला, जेएनएन। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन जिला कांगड़ा की पूर्व उपाध्यक्ष बादल सक्सेना ने कहा इस महामारी के दौर में इतने युवाओं का रोजगार चला गया, व्यापारियों के काम धंधे बंद पड़े हैं और छात्रों की पढ़ाई पर जो असर पड़ा है वो तो सबके सामने है। इसके अलावा लंबे समय से चल रहा हिमाचल प्रदेश के केंद्रीय विश्वविद्यालय का अहम मुद्दा जो छात्रों से सीधा संबंध रखता है उसे भी सरकार ने ठंडे बस्ते में डाल रखा है। पिछले दिनों इसी मुद्दे पर केंद्रीय राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर का रवैया भी सभी ने देखा,  जहां अनुराग ठाकुर ने अपने ही छात्र संगठन के साथ दुर्व्यवहार किया।

केंद्रीय विश्वविद्यालय धर्मशाला की जमीन कांग्रेस सरकार के समय चयनित की गई थी, जिसका श्रेय पूर्व मंत्री सुधीर शर्मा को जाता है। भाजपा सरकार हर जगह अपने कार्यालय बनाने में तो सफल रही है। लेकिन केंद्रीय विश्वविद्यालय के कार्य को पूर्ण करने में पूर्णतया असफल रही है। जनता में आक्रोश भरा है और साफ तौर पर कांग्रेस सरकार की कमी भी खल रही है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.