एनएचएम कर्मचारियों का प्रतिनिधिमंडल मिला विपिन सिंह परमार से, रेगुलर पे स्केल की मांग को लेकर सौंपा मांग पत्र

विपिन सिंह परमार से नागरिक अस्पताल भवारना में मिला। संघ ने विधानसभा अध्यक्ष को रेगुलर पे स्केल की मांग को जल्दी पूरा करने के लिए मांग पत्र सौंपा। स्वास्थ्य विभाग में लगभग 1500 एनएचएम कर्मचारी पिछले 15से 20 सालों से अनुबंध पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

Richa RanaTue, 21 Sep 2021 02:00 PM (IST)
एनएचएम कर्मचारी संघ का प्रतिनिधिमंडल विधानसभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार से नागरिक अस्पताल भवारना में मिला।

भवारना, संवाद सहयोगी। एनएचएम कर्मचारी संघ का प्रतिनिधिमंडल विधानसभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार से नागरिक अस्पताल भवारना में मिला। संघ ने विधानसभा अध्यक्ष को रेगुलर पे स्केल की मांग को जल्दी पूरा करने के लिए मांग पत्र सौंपा। स्वास्थ्य विभाग में लगभग 1500 एनएचएम कर्मचारी पिछले 15से 20 सालों से अनुबंध पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं। लेकिन आज तक इनके लिए न तो कोई नीति बनाई गई और न ही रेगुलर पे स्केल दिया गया। पिछले कई वर्षों से एनएचएम कर्मचारी संघ रेगुला पे स्केल देने की मांग कर रहा है।

 

परमार जब स्वास्थ्य मंत्री थे तब से एनएचएम कर्मचारी संघ इनसे अपनी मांग उठता रहा है। लेकिन तब से सिर्फ आश्वासन ही सरकार से मिल रहे हैं। आज भी एनएचएम कर्मचारी संघ के प्रतिनिधिमंडल ने जोर जोर से परमार जी के समक्ष अपनी रेगुलर पे स्केल की मांग रखी और शीघ्र ही कार्रवाई का भरोसा भी दिया। एनएचएम कर्मचारी संघ मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से मांग करता है कि जल्द से जल्द एनएचएम कर्मचारियों को रेगुलर पे स्केल देने की घोषणा करें। एनएचएम के लगभग 1500 कर्मचारी सरकार से नाराज चले हैं। लेकिन फिर भी उम्मीद करते हैं कि मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर एनएचएम कर्मचारियों को रेगुलर पे स्केल देने की घोषणा जल्दी ही कर देंगे।

 

इस अवसर पर प्रतिनिधिमंडल में मोनिका पुरी,अंकुर परमार, डॉ अभिनव, रीना, रमन, अंकुश, मुनीश, सुमन, कंचन, दीपिका मौजूद रहे। एनएचएम कर्मचारी संघ के प्रदेशाध्यक्ष अरविंद शर्मा ने बताया की सरकार को शीघ्र ही एनएचएम कर्मचारियों को रेगुलर पे स्केल प्रदान कर देना चाहिए। एनएचएम कर्मचारियों का शोषण बंद होना चाहिए। एनएचएम कर्मचारी 20 सालों से पूरी ईमानदारी के साथ सरकारी आदेशों का पालन करते हुए अपना कार्य कर रहे हैं। कभी काम नही रोका, करोना काल में भी पूरी ईमानदारी से काम कर रहे हैं। फिर भी सरकार द्वारा कोई नीति नहीं बनाई जा रही जिससे कर्मचारियों में भारी रोष है। अब कर्मचारी हितैषी मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर को घोषणा कर देनी चाहिए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.