Lahaul Panchayat Election: लाहुल में निर्विरोध चुनी गई चार पंचायतें, नामांकन पत्र भरने की प्रक्रिया समाप्त

Lahaul Panchayat Election लाहुल मंडल की चार पंचायतें निर्विरोध चुनी गई हैं। लाहुल स्पीति में नामांकन भरने का बुधवार को अंतिम दिन था। लाहुल की कारदंग कोलोंग तांदी व तिगरेट पंचायत के लोगों ने चुनाव न कर सर्वसम्मति से पंचायत को चुनते हुए एकजुटता की मिसाल पेश की है।

Rajesh Kumar SharmaThu, 16 Sep 2021 11:59 AM (IST)
लाहुल मंडल की चार पंचायतें निर्विरोध चुनी गई हैं।

केलंग, जागरण संवाददाता। Lahaul Panchayat Election, लाहुल मंडल की चार पंचायतें निर्विरोध चुनी गई हैं। लाहुल स्पीति में नामांकन भरने का बुधवार को अंतिम दिन था। नामांकन प्रक्रिया संपन्न होने के बाद चुनाव प्रचार ने रफ्तार पकड़ ली है। लाहुल की कारदंग, कोलोंग, तांदी व तिगरेट पंचायत के लोगों ने चुनाव न कर सर्वसम्मति से पंचायत को चुनते हुए एकजुटता की मिसाल पेश की है। तोद घाटी के कोलोंग पंचायत में प्रधान तंजिन मेंतोग, उपप्रधान सोनम टशी, कोलोंग से छुलटिम जंगमो, खंगसर से सुमन, मेह कुंगा से नामग्याल, गेमुर से लामो और तिनो गांव से तन्जिन अंगयाल सर्वसम्मति से चयनित हुई हैं। कारदंग से टशी अंगमो प्रधान व टशी दवा उपप्रधान चयनित हुए हैं।

तांदी पंचायत से वीरेंद्र कुमार निर्विरोध प्रधान चुने गए हैं। तिंगरेट पंचायत से अनीता देवी निर्विरोध प्रधान चुनी गई है। हालांकि निर्विरोध चुने गए प्रत्याशियों के चयन की आधिकारिक घोषणा नाम वापसी के बाद ही होगी। जिला परिषद की सभी 10 सीटों में मुकाबला तिकोना होने जा रहा है। लाहुल के पंचायत चुनाव में पहली बार युवाओं ने रुचि दिखाई है।

यह भी पढ़ें: President Himachal Visit: राष्‍ट्रपत‍ि राम नाथ कोविन्‍द आज से हिमाचल प्रवास पर, पढ़ें पूरा कार्यक्रम

18 को वापस लिए जा सकेंगे नामांकन पत्र

जिला परिषद के 10 वार्डों के लिए 39 और 15 पंचायत समितियों के लिए 34 प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया है। 16 सितंबर को नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी। 18 सितंबर को सुबह 10 बजे से लेकर दोपहर तीन बजे के बीच नामांकन पत्र वापस लिए जा सकेंगे।

दो चरणों में संपन्‍न होगा मतदान

जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त लाहुल स्पीति नीरज कुमार का कहना है जिले में पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव के लिए मतदान दो चरणों में संपन्न होगा। पहला चरण 29 सितंबर जबकि दूसरा चरण एक अक्टूबर को निश्चित किया गया है।

यह भी पढ़ें: Himachal Sair Parv: आधुनिकता के दौर में युवा पीढ़ी भूली सायर का महत्‍व, जानिए क्‍यों मनाया जाता है पर्व

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.