सार्वजनिक यातायात ने पकड़ी रफ्तार

संवाद सहयोगी धर्मशाला कोरोना क‌र्फ्यू के बीच दी गई ढील में बुधवार से सार्वजनिक यातायात ने

JagranPublish:Thu, 17 Jun 2021 02:00 AM (IST) Updated:Thu, 17 Jun 2021 02:00 AM (IST)
सार्वजनिक यातायात ने पकड़ी रफ्तार
सार्वजनिक यातायात ने पकड़ी रफ्तार

संवाद सहयोगी, धर्मशाला : कोरोना क‌र्फ्यू के बीच दी गई ढील में बुधवार से सार्वजनिक यातायात ने रफ्तार पकड़ी। जिलेभर में निजी आपरेटरों ने विभिन्न रूट पर बसें चलाई। निजी बसों के संचालन से लोगों को खासी राहत मिली है। सबसे अधिक सुविधा दफ्तर जाने वाले लोगों को मिली है, जिन्हें रोजाना पैदल सफर कर या फिर महंगी दरों पर टैक्सी कर आवाजाही करनी पड़ती थी। बाजार आने वाले लोगों को भी आवाजाही के लिए बसों का इंतजार नहीं करना पड़ा।

ज्यादातर बस आपरेटरों को घाटा ही सहन करना पड़ा है। लंबे रूट में डीजल व चालक-परिचालकों के खर्च निकालकर कुछ आमदनी निजी आपरेटरों को हुई है लेकिन स्थानीय रूट में घाटा ही उठाना पड़ा है। कांगड़ा-मंडी रूट पर चलने वाली निजी बस की आम दिनों में कमाई 10000 से ज्यादा होती थी लेकिन बुधवार को 7000 रुपये तक ही सीमित हो गई। इसके अलावा कांगड़ा-धर्मशाला वाया शिल्ला होकर आने वाली निजी बस की कमाई 120 रुपये हुई और इसमें डीजल का खर्च भी पूरा नहीं हो सका। हिमाचल पथ परिवहन निगम ने 250 रूट पर बसें चलाई व निजी गाड़ियों की संख्या 200 तक ही सीमित रही। गौरतलब है कि निजी आपरेटरों का पहले एक ही धड़ा बसें चला रहा था लेकिन बुधवार को दूसरे ने भी बस सेवा बहाल कर दी।

......................

तीसरे दिन भी स्थानीय रूट पर सवारी नहीं मिली। लंबे रूट में सवारी है। स्थानीय रूट में डीजल का खर्च भी पूरा नहीं हो पा रहा है।

-प्रवीण दत्त शर्मा, प्रदेशाध्यक्ष निजी आपरेटर संघर्ष समिति

.........................

बुधवार से बस सेवा शुरू कर दी है। पहले दिन कमाई न के बराबर रही। 30 फीसद ही बसें चली हैं, लेकिन सवारी नहीं मिल रही है।

-रवि दत्त शर्मा, अध्यक्ष निजी बस आपरेटर वेलफेयर सोसायटी।

.......................

एचआरटीसी का प्रयास है कि यात्रियों को सुविधा मिले। पहले दिन के मुकाबले दूसरे रोज छह रुपये प्रति किलोमीटर आय में बढ़ोतरी हुई है। उम्मीद है कि आने वाले दिनों में आय और बढ़ेगी।

-पंकज चड्ढा, आरएम एचआरटीसी धर्मशाला।

.....................

किस डिपो से कितनी बसें चली

डिपो, अंतर जिला रूट, स्थानीय रूट, कुल

बैजनाथ, 4, 60, 64

पालमपुर, 8, 34, 42

नगरोटा बगवां, 12, 31, 43

धर्मशाला, 9, 34, 43

पठानकोट, 6, 13, 19

देहरा, 17, 22, 39

..................

कुल, 56, 194, 250