अनुबंध के लिए पीस मील वर्कर्स ने शुरू की अनिश्‍च‍ितकालीन हड़ताल, मंडी में 250 वर्कर ने रोका काम

HRTC Piecemeal Workers Strike हिमाचल पथ परिवहन निगम में कार्यरत पीस मील वर्कर टूल डाउन हड़ताल पर बैठ गए हैं। मंडी जिला में करीब 250 कर्मचारियों ने वर्कशाप में काम बंद कर दिया है। जब तक उनको अनुबंध पर नहीं किया जाता तब तक उनकी हड़ताल जारी रहेगी।

Rajesh Kumar SharmaPublish:Mon, 29 Nov 2021 12:31 PM (IST) Updated:Mon, 29 Nov 2021 12:31 PM (IST)
अनुबंध के लिए पीस मील वर्कर्स ने शुरू की अनिश्‍च‍ितकालीन हड़ताल, मंडी में 250 वर्कर ने रोका काम
अनुबंध के लिए पीस मील वर्कर्स ने शुरू की अनिश्‍च‍ितकालीन हड़ताल, मंडी में 250 वर्कर ने रोका काम

मंडी, जागरण संवाददाता। HRTC Piecemeal Workers Strike, हिमाचल पथ परिवहन निगम में कार्यरत पीस मील वर्कर टूल डाउन हड़ताल पर बैठ गए हैं। मंडी जिला में करीब 250 कर्मचारियों ने वर्कशाप में काम बंद कर दिया है। इन्होंने मांग की है कि जब तक उनको अनुबंध पर नहीं किया जाता तब तक उनकी हड़ताल जारी रहेगी। पीस मील वर्कर मंच के मंडलीय प्रधान रजत ने कहा अगस्त में भी कर्मचारियों को अनुबंध पर करने की मांग को लेकर टूल डाउन हड़ताल की थी। 17 अगस्त से 24 अगस्त तक चली हड़ताल को परिवहन मंत्री और निगम प्रबंधन के आश्वासन के बाद वापस लिया गया था,। लेकिन मंत्री और प्रबंधन का आश्वासन झूठा निकला है। ऐसे में पीस मील वर्कर खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि ऐसे में मजबूर होकर पीस मील वर्कर्स को हड़ताल का रास्ता अपनाना पड़ा है और यह हड़ताल तब तक जारी रहेगी, जब तक हमारी मांग को मान नहीं लिया जाता है। रजत ने बताया कि इस दौरान प्रदेश की जनता को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन इसके लिए जिम्मेदारी सरकार व परिवहन निगम की होगी।

उन्होंने कहा लंबे समय से दिहाड़ी पर काम कर रहे पीस मील वर्करों की मांग को हमेशा ही अनदेखा किया जाता रहा है और अब यह सहन नहीं होगा। मंडी में धरने पर बैठे पदाधिकारियों में महासचिव लाभ सिंह, प्रधान राज कृष्ण, उपप्रधान कुशाल कुमार, बलदेव, प्रकाश चंद, विमल कुमार, पिंक राज, प्रेस सचिव विशाल सहित अन्य कर्मचारी शामिल रहे हैं।

जारी रहेगी हड़ताल तो बढ़ेगी दिक्कत

पीस मील वर्करों की हड़ताल से पहले दिन तो अधिक दिक्कत नहीं आई। लेकिन अगर वर्कर्स हड़ताल पर रहे तो मंगलवार से परेशानी होगी, क्योंकि बसों में आने वाली दिक्कत को ठीक करने वाला कोई नहीं होगा।