हिमाचल प्रदेश संस्कृत अकादमी के पूर्व सचिव प्रो. भक्त वत्सल शर्मा का कोरोना संक्रमण से निधन

सहित्यकार प्रो. भक्त वत्सल शर्मा का रविवार को अकस्मात निधन हो गया।

Bhakat Vatsal Passed Away हिमाचल प्रदेश संस्कृत अकादमी में पूर्व सचिव एवं प्रख्यात सहित्यकार प्रो. भक्त वत्सल शर्मा का रविवार को अकस्मात निधन हो गया। कोरोना संक्रमण के चलते उनको पहले कोविड सेंटर पालकवाह ले जाया गया था

Rajesh Kumar SharmaSun, 09 May 2021 12:54 PM (IST)

बंगाणा, संवाद सहयोगी। Bhakat Vatsal Passed Away, हिमाचल प्रदेश संस्कृत अकादमी में पूर्व सचिव एवं प्रख्यात सहित्यकार प्रो. भक्त वत्सल शर्मा का रविवार को अकस्मात निधन हो गया। कोरोना संक्रमण के चलते उनको पहले कोविड सेंटर पालकवाह ले जाया गया था, उसके बाद तबीयत बिगडऩे पर उन्हें जालंधर के एक निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां पर उन्होंने अंतिम सांस ली। कोविड नियमों के चलते उनका अंतिम संस्कार दामाद और बेटी की उपस्थिति में जालंधर में किया गया। उनके अकस्मात निधन से संस्कृत प्रेमियों, प्रबुद्वजनों, संस्कृत परिषद में शोक की लहर दौड़ गई है।

गौरतलब है कि प्रो. भक्त वत्सल शर्मा ने डोहगी संस्कृत महाविद्यालय में बतौर प्राचार्य अपनी सेवाएं प्रदान की हैं। इस दौरान महाविद्यालय के उत्थान के लिए अहम योगदान किया था। इसके साथ साथ उन्होंने विभिन्न शैक्षणिक संगठनों के साथ मिलकर संस्कृत भाषा को जनभाषा बनाने की दिशा में अलख जगाने का काम किया है। वह विगत वर्ष ही डोहगी संस्कृत महाविद्यालय के प्राचार्य पद से सेवानिवृत्त हुए थे, बावजूद इसके उन्होंने संस्कृत भाषा के प्रचार प्रसार के लिए अपने प्रयास निरंतर जारी रखे थे।

प्रो. भक्त वत्सल शर्मा अपने परिवार में पीछे पत्नी, एक बेटा तथा बेटी छोड़ दुनिया को अलविदा कह गए। प्रोफेसर भक्त वत्सल पिछले साल ही संस्कृत महाविद्यालय डोहगी से प्रचार्य के पद से सेवानिवृत्त हुए थे। वे लगातार 42 साल तक इसी पद पर बने रहे। यह रिकॉर्ड भी उनके नाम रहा है।

यह भी पढ़ें: कोरोना से बिगड़े हालात के बाद कांगड़ा सहित चार जिलों में बढ़ाई सख्‍ती, जान‍िए सरकार के नए दिशा निर्देश

मंत्री वीरेंद्र कंवर ने शोक जताया

प्रो. भक्त वत्सल शर्मा के अकस्मात निधन पर ग्रामीण विकास पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने गहरा दुख व्यक्त करते हुए शोक संतप्त परिवार के प्रति संवदेना जताई है। उन्होंने कहा प्रो. वत्सल का संस्कृत भाषा को शिखर पर ले जाने में अहम योगदान रहा है। इस क्षतिपूर्ण को कभी भूलाया नही जा सकता है।

यह भी पढ़ें: Himachal Covid Cases Update: कोरोना संक्रमण के एक्‍ट‍िव केस 31 हजार के पार, इन जिलों में बिगड़ रहे हालात

यह भी पढ़ें: हर कोरोना संक्रमित मरीज को रेमडेसिविर इंजेक्शन लगाना जरूरी नहीं, जानिए क्‍या कहते हैं विशेषज्ञ

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.