Pegasus Spyware Case: पेगासस जासूसी के विरोध में हिमाचल में कल सड़क पर उतरेगी कांग्रेस, राजभवन तक करेंगे प्रदर्शन

Pegasus Spyware Case हिमाचल कांग्रेस पेगासस फोन जासूसी के विरोध में 23 जुलाई को राज्‍य पार्टी मुख्यालय राजीव भवन से राजभवन तक प्रदर्शन करेगी। इसमें प्रदेश कांग्रेस के पदाधिकारी व कार्यकर्ता शामिल होंगे। साजिश के तहत देश की कई हस्तियों की जासूसी कर लोकतंत्र की मर्यादा का हनन किया है।

Rajesh Kumar SharmaThu, 22 Jul 2021 08:59 AM (IST)
हिमाचल कांग्रेस पेगासस फोन जासूसी के विरोध में 23 जुलाई को राजीव भवन से राजभवन तक प्रदर्शन करेगी।

शिमला, जागरण संवाददाता। Himachal Congress, हिमाचल प्रदेश कांग्रेस पेगासस फोन जासूसी के विरोध में 23 जुलाई को राज्‍य पार्टी मुख्यालय राजीव भवन से राजभवन तक प्रदर्शन करेगी। इसमें प्रदेश कांग्रेस के पदाधिकारी व कार्यकर्ता शामिल होंगे। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने फोन टैप व उनकी जासूसी करने की आलोचना करते हुए कहा है कि इस पूरे मामले की जांच संयुक्त संसदीय समिति से करवाई जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि साजिश के तहत देश की कई हस्तियों की जासूसी कर लोकतंत्र की मर्यादा का हनन किया है। राठौर ने आरोप लगाया कि इस जासूसी के चलते कांग्रेस शासित राज्यों व विपक्षी दलों की सरकारों को अस्थिर किया।

राठौर ने आरोप लगाया है कि पेगासस जासूसी में सरकार का हाथ है और इसके लिए उसे देश से माफी मांगते हुए गृह मंत्री अमित शाह को पद से हटा कर इस मामलें की जांच किसी सिटिंग जज से करवानी चाहिए।

कांग्रेस ने उपचुनाव के चार पर्यवेक्षक किए नियुक्त

रोहड़ू। जुब्बल नावर कोटखाई विधानसभा उपचुनाव के लिए कांग्रेस ने चार पर्यवेक्षक नियुक्त किए हैं। प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर के आदेशानुसार रोहड़ू से विधायक मोहन लाल ब्राक्टा व अनुसूचित जाति विभाग के राष्ट्रीय समन्वयक सुरेश कुमार, हिमाचल कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी सदस्य रमेश चौहान व हिमाचल प्रदेश युवा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष मुनीष ठाकुर की नियुक्ति की गई है।

जासूसी कांड पर मुख्यमंत्री का बचाव बेतुका

चिंतपूर्णी। आम आदमी पार्टी ने प्रदेश ने मुख्यमंत्री को पेगासस जासूसी कांड में बेतुके बयान से बचने की सलाह दी है। पार्टी ने मुख्यमंत्री के उस बयान पर निशाना साधा है जिसमें उन्होंने जासूसी कांड को लेकर विपक्ष पर आरोप लगाए हैं। आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता पूर्ण चंद ने बयान जारी करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री क्या यह कहकर बच सकते हैं कि कांग्रेस के शासन में कई हजार फोन और ईमेल की निगरानी की गई। क्या लोकतंत्र में सिर्फ में निजता का हनन करने का तर्क ये दिया जा सकता है कि पहले की सरकारों में यह होता था। विपक्ष के आरोपों को बेबुनियाद बताने में मुख्यमंत्री शायद यह भूल रहे हैं कि प्रदेश में उनकी ही पार्टी की सरकार पर पहले भी ऐसे आरोप लग चुके हैं। जासूसी कांड में निष्पक्ष जांच की जाए ताकि सच सबके सामने आ सके।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.